Attitude Badmashi Shayari in Hindi | बदमाशी शायरी

Hello, friends in this post we are going to share the best badmashi Shayari in Hindi which you can share with your friends on Facebook and Whatsapp. Here all these badmashi Shayari are full of attitude so you can use them to show your swag to your friends.

So friends without wasting any time let’s start this post.

Attitude Badmashi Shayari in Hindi

बदमाशी शायरी

badmashi shayari in hindi

1
तुम हमें क्या समझते हो
हम तुम्हें नहीं जानते
तुम शायद अभी तक हमें नहीं पहचानते
लोग हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं
तुम हमें अभी अच्छे से नहीं जानते

2
तुम्हें तुम्हारी औकात दिखा सकते हैं
तुम्हें घमंड एक पल में तोड़ सकते हैं
पर हम नहीं करते तुम जैसों से बात
क्योंकि हम आज भी अपने दम पर जीते है

3
तेरी औकात मेरे सामने कुछ भी नहीं है
जो तुम मुझे इतना घमंड दिखा रही है
तेरे दो कौड़ी के एटीट्यूट को अपने जैब मैं रखता हु
जो तुझे मुझे इतना अकड़ दिखा रही हो

4
कुछ लोग हमें चलना सिखा रहे हैं
जिन्हें नहीं आता कुछ भी
वह हमे एटीट्यूड दिखा रहे हैं

5
ज्यादा घमंड मैं मत रहना
तुम्हारा घमंड 1 मिनट में तोड़ सकता हूं
तुम मेरे जूते के बराबर भी नहीं
मैं तुम्हे अकेला छोड़ सकता हूं

6
मेरी जिंदगी है मैं अपनी तरह से जीना चाहता हूं
मेरे पर कोई भी इल्जाम ना लगाना
किसी से नहीं डरता मैं
क्योंकि मैं अपने दम पर बनना चाहता हूं

7
लोग मेरे बारे में कुछ भी नहीं जानते
फिर भी वह अपनी जुबान खोलते हैं
उनकी जितनी औकात है वह उतना ही बोलते हैं

8
हमारे सामने बदमाशी दिखा रहे हो
हमें सब कुछ सिखा रहे हो
तुम्हें कुछ भी नहीं आता हम से ज्यादा
किस की औलाद हो गए तुम खुद बता रहे हो

9
अपना घमंड को अपने पास रखना
अपनी पकड़ को अपने पास रखना
क्योंकि हम तुम्हारे जैसों के मुंह नहीं लगते
इसीलिए अपनी औकात को सोच समझ कर बात करना

10
जिंदगी इतनी आसानी से मिल नहीं जाती
किसी को इतनी आसानी से दी नहीं जाती
और वह मेरे ख्यालों में बस चुकी थी इस तरह
की फिर हमने भी उसे छोड़ दिया
अगर वह हमारे पास नहीं आती

11
जो लोग मुझसे जलते है
उनके लिए बस इतना ही कहना चाहता हूं की
जल जल कर मर जाओगे
तो भी मेरा कुछ उखाड़ नहीं पाओगे
मैं ऐसे ही उड़ता रहूंगा आसमान में
तुम हमेशा जमीन में ही खाक छानते रह जाओगे

12
जिंदगी में मैं किसी से नहीं डरता
अपने दम से बना हूं
किसी के बाप से नहीं डरता

13
मैं ना ही किसी को अच्छा कहता हु ना
ना ही किसी को बुरा कहता हु
जो लोग जैसा समझते है मुझे
मैं उनके साथ वैसा बनकर रहता हु।

14
मैं अपनी जिंदगी को इस तरह से जीना चाहता हूं
किसी के एहसानों पर नहीं खुद की कमाई पर बनना चाहता हूं अपने बाप का पैसा खर्च नहीं करता
मैं अपनी कमाई से उन्हें खिलाना चाहता हु

15
मैंने कुछ लोग ऐसे भी देखते हैं
जिन्हें अपनी बड़ाई करने का शौक होता है
पर मैं उन लोगों में से नहीं हूं
जिन्हें खुद की तारीफ करने का शौक होता है।

16
आजकल के लौंडे हमें चलना सिखा रहे हैं
यह बदमाशी हमको दिखा रहे हैं
अरे यह नहीं जानते इनका बाप कौन है
इसीलिए तो यहां हमसे लड़ने आ रहे हैं

17
अपनी औकात जरा चेक कर लेना
उसके बाद ही हमसे दुश्मनी कर लेना
हम तुम्हें इस तरीके से तोड़ेंगे कि मर भी नहीं पाओगे
और तुम फिर इस दुनिया में कभी आ नहीं पाओगे

18
इतना आसान नहीं होता है किसी को कुछ भी कह देना
उसके लिए जिगर और हिम्मत चाहिए होती है
बदमाश तो हम जन्म से ही हैं
लेकिन तुम जैसों के लिए हमारा बाया हाथ ही काफी है

19
इतनी आसानी से हार नहीं मान जाऊंगा मैं
हवा हूं वापस लौट आऊंगा मैं
तुम देखते रह जाओगे मुझे ऐसे ही
तुम्हारी नजरों के सामने से उसे चुरा ले जाऊंगा मैं

20
हमारे चर्चे हर जगह इसीलिए होते हैं
क्योंकि हम जहां से खड़े होते हैं
वहां पर फिर कोई नहीं होता

21
बदमाशी नहीं करते हम
बदमाशों के साथ नहीं रहते
हम अपने दम पर जीते हैं जिंदगी
हम किसी के एहसानों पर नहीं जीते

22
मैं सिर्फ और सिर्फ अपनी ही बात कहना चाहता हूं
मैं किसी के साथ नहीं रहना चाहता हूं
अकेला ही खुश हूं मैं भी
क्योंकि अब मैं धोखेबाज से दूर रहना चाहता हूं

23
यह जो तुम हमें बदमाशी दिखा रहे हो
और इतनी अकड़ बता रहे हो
हमारी ही गिर गई थी थोड़ी सी उसी को उठा रहे हो

24
हवाओं से टकराने से पहाड़ों में सुराग नहीं हुआ करते
और कुत्तों के भौंकने से शेर कभी पीछे नहीं हटा करते

25
हवाओं से कह दो अपना रूख बदल ले
क्योंकि इन में हमें हिलाने का दम नहीं है
हम वह पत्ते है जो शाखों से टूट नहीं सकते
और तुम हमसे दूर ही रहो तो अच्छा है
क्युकी तुम हमसे जीत नहीं सकते

26
जिंदगी मेरी है किसी के बाप की नहीं
अपने दम पर जीता हु
किसी के रहम पर नहीं

27
इतनी आसानी से मैं मर नहीं जाऊंगा
जो तुम मुझे मारने की कोशिश कर रहे हो
हवा हूं लोट आऊंगा,, पत्ता नहीं हु जो टूट कर बिखर जाऊंगा

28
शौक खराब है मेरे और लोग
हमें बिगड़ा हुआ नवाब कहते हैं
हमसे मत उलझ ना बच्चे
क्योंकि सब हमें तुम्हारा बाप कहते हैं

29
जब भी जिस जिस ने मेरे साथ लड़ाई की है
फिर मैंने उसका हिसाब अपने तरीके से किया है
क्योंकि हम किसी का उधार नहीं रखते
क्योंकि हमने अपनी मां का दूध पिया है

30
मैं किसी से पहले से बात नहीं करता हूं
मैं किसी से लड़ाई नहीं करता हूं
पर जब कोई दिखाता है ज्यादा अकड़ मुझे
तो फिर मैं उसकी बस सफाई करता हूं

31
यह तुम किसे बदमाशी दिखा रहे हो
हम कौन हैं यह शायद तुम नहीं जानते
इसीलिए इतनी ज्यादा अकड़ बता रहें हो

32
अपनी अकड़ को अपनी जेब में रखें
हर जगह अपने नाम का इस्तेमाल ना करें
हम अपनी पहचान से बनाते हैं खुद को
अपने कामों का बखान ना करे

33
तुम हमें नहीं जानते तुम हमें नहीं पहचानते
हम कौन हैं यह शायद तुम कभी जान भी नहीं पाओगे
तुम हमारी लेवल की नहीं हो
जब तक उस तक आओगे
फिर तुम हमें संभाल नहीं पाओगे

34
मुझे धमकी मत देना क्योंकि शेर किसी से डरता नहीं है
ऐसे कुत्ते बहुत देखे हैं मैंने मेरे आस-पास
शेर कभी भी दो कदम पीछे नहीं हटता

35
यह मत समझ लेना मैं तुम से डर गया
मैं 1 दिन फिर वापस आऊंगा
मेरा राज फिर से होगा यहां
मैं तुम्हें तुम्हारी औकात दिखाऊंगा

36
आज मेरा वक्त नहीं है
इसीलिए मैं जा रहा हूं
लेकिन मैं डरता नहीं किसी के बाप से
इतना इतना में फिर वापस आ रहा हूं

37
हम सबको कुछ से बताते नहीं फिरते
हम किसी के पहले से छेड़ नहीं करते
पर जो हमें छेड़ता है एक बार
फिर हम कभी उससे नजरें उठाकर बात नहीं करते

38
बदमाशों की नगरी में हमारा राज होता है
हर तरफ हमारा ही सिक्का चलता है
लोग कहते हैं हमें सबसे बुरा पर
फिर भी हर जर्रे हमारा ही परचम ऊंचा होता है

39
हम किसी के बारे में कुछ नहीं कहते
लोग हमारे बारे में झूठी अफवाह बनाते हैं
क्योंकि हमारा नाम हो रहा है
इसीलिए हमें बदनाम करने की साजिश रचते हैं

40
ये सफर ऐसे ही चलता है
हर तरफ सिक्का हमारा चलता है
हम राज करते है यहां पर
यहां हमारा नाम चलता है।

41
यह लड़कियां जो अपना एटीट्यूड दिखा रही है
वह अपने पास ही रखें
अपनी शक्ल के हिसाब से दिखाए गुरुर
ये अपना सड़ा हुआ चहेरा अपने पास रखे

42
मैं अपनी जिंदगी मैं कुछ ऐसे हसीन लमहे जी रहा हूं
हर दफा मैं तुमसे मोहब्बत कर रहा हूं
पर तुमने तो मुझे पता नहीं जाने क्या समझ लिया
पर अब ठीक है मत आ मैं तुम्हारी औकात भी दिखा दूंगा
अगर प्यार किया है मैंने तुमसे तुम्हें अपनी नफरत भी बता दूंगा

44
हमारे अलावा किसी की नहीं चलती यहां
सब हमसे पूछ कर किया जाता है
और जो भी कोशिश करता है हमसे लड़ने की
वह फिर जिंदा बच नहीं पाता है

46
अपनी अकड़ को अपने पास रखें
क्योंकि हमारे पास ऑलरेडी बहुत है
और तुम क्या हमारा कुछ बिगाड़ लोगी
तुम्हारे जैसे मेरे आगे पीछे बहुत है

48
मैंने तो समझा था कि तुम्हें छोड़ दूंगा मैं
पर तुमने जो अपनी अकड़ दिखाई है
उसके बाद तुम्हारे सारी हड्डियां तोड़ दूंगा मैं

49
मैं तो यहां पर ही रहता हूं
अपने सारे काम करता हूं
किसी से नहीं रखता में भेदभाव
मैं सब कुछ सामान रखता हूं

50
ज्यादा किसी से कुछ कहता नही हू
किसी के दबाव मैं रहता नही हू
लोग मुझे नही जानते शायद
मैं राजा हू किसी से डरता नहीं हू

51
अपनी जिंदगी को ऐसे जियो
की नाम हो जाए
हर तरफ आपकी पहचान हो जाए

52
अब मुझे किसी से कुछ लेना देना है
अब मुझे किसी से बात करनी है
लोगों ने मुझे बुरा कहा है तो बुरा बनकर दिखाऊंगा
उनको अब मैं बदमाशी का मतलब समझाऊंगा

53
बदमाश कहते है लोग मुझे
और अपनी अकड़ दिखाते है
लोग नही जानते अभी तक मुझे
इसलिए अपनी औकात दिखाते है।

54
बदमाश लोगो से दूर रहा करता था मैं
पर लोगो ने मुझे ही बदमाश बना दिया
अब मैं नहीं करता किसी पर यकीन
दुनिया ने मुझे बुरा बना दिया

55
लोग बस अपना देखते है
किसी का सोचता नही है
मैं भी नही करता अब बात उनसे
जिनका मेरे से कोई रिश्ता नहीं है।

56
अब जाकर मुझे समझ आया है
लोगो का असल मतलब समझ आया है
खुद करते है मेरे से आगे जाने की कोशिश
इसलिए आज उनका काल आया है।

57
सफर जिंदगी का चलना चाहिए
सब कुछ ऐसा ही होना चाहिए
पर जो लोग करते है मुझसे नफरत
वो ऐसे ही जलते रहना चाहिए

58
अब मैं किसी की परवाह नही करता
किसी से डरता नहीं हू
लोग मुझे कहते है बदमाश
पर मैं किसी के टुकड़ों पर पलता नही हू

59
हमने उनकी बात का जवाब क्या दिया
हम तो बदमाश हो गए
वो कहते रहे हमसे कुछ भी
और हम उनके लिए पराए हो गए

60
अब अगर थोड़ी से भी कोई अकड़ दिखाएगा
फिर वो मुझे यहां दिख नही पाएगा
लोग कैसे भी हो नही है मतलब मुझे
मेरे कहर से कोई बच नहीं पाएगा

61
जब जब मेरे पर इल्जाम आता है
हर कोई मेरे पास आता है
अब लोग डरते है मुझसे
क्युकी हमारे नाम का खौफ अब सब जगह छाता है।

62
अब थोड़ी से हम खुद को सही ठहराया करेंगे
कोई बताएगा हमे अकड़
तो उसे उसकी औकात दिखाया करेंगे
लोग हमसे जलते है तो जले
हम उन्हे उनकी सही जगह दिखाया करेंगे

63
नहीं हम किसी से डरते हैं
ना ही हम किसी से मोहब्बत करते हैं
हम तो अपनी मस्ती में मस्त रहते हैं
इसीलिए हम सिर्फ अपना काम करते हैं

64
हमें बदमाश लोगों ने नाम दिया है
वरना हम भी काम के हुआ करते थे
हम भी जब रहते थे अपने दोस्तों के साथ
तो अपनी जिंदगी में आलीशान हुआ करते थे

65
लोग हमें पता नहीं क्या समझते हैं
पर हमें हम उन्हें उनकी भाषा में समझा सकते हैं
अगर वह नहीं चाहते हमसे बात करना
तो हम भी उनसे बात नहीं करते
हम उन्हें मुंहतोड़ जवाब दे सकते हैं

66
मुझे किसी से कुछ लेना देना नहीं है
मुझे किसी से मिलकर साथ काम करना नहीं है
जिसे जो चाहे वह करे मुझे अपनी धुन में मस्त रहना है
किसी की गुलामी करना नहीं है

67
मैं किसी की गुलामी करना नहीं चाहता
मैं कभी किसी के पास जाना नहीं चाहता
मैं तो बुरा हूं यह खुद कहता हूं
पर मैं किसी के तलवे चाटना नहीं चाहता

68
हम अपनी जिंदगी में मस्त रहा करते हैं
लोगों से दूर रहा करते हैं
लोग जाते हैं हमारे पास अपनी ऐसी तैसी करवाने
हम कभी उनसे बात नहीं किया करते हैं

69
मैं उन लोगों को बस इतना ही कहना चाहूंगा
जो मेरे बारे में बुरा कहते हैं कि तुम बुरा कहते रहो मेरे बारे में मेरा कुछ बुरा कर नहीं पाओगे
मैं तो अपनी मंजिल पा ही लूंगा
पर तुम बताओ तुम कहां जाओगे

70
कुछ रिश्तेदार मेरे से जलते हैं
कुछ मेरे पीठ पीछे बुराई करते हैं
वह कहते हैं मुझे बदमाश
और वह मेरे संग बेवफाई करते हैं

71
बदमाशों की दुनिया का एक ही रिवाज है
लोग यहां पर आसपास होते हैं मगर कोई नई खास है
सब लोग करते हैं एक दूसरे से दुश्मनी
पर हम वह हैं जिसके सर पर माता रानी का हाथ है

72
मैं अब ज्यादा किसी से बहस करता नहीं हूं
क्योंकि मुझे बहस करना नहीं आता
मैं नहीं लगता तुम जैसों की मुंह
क्योंकि मुझे तुम जैसों से उलझना नहीं आता

73
जब तक हम खामोश हैं
हमें खामोश रहने दिया जाए
हमारी आवाज को बुलंद ना करने दिया जाए
वरना लोग बुरा मान जाएंगे
अगर हम फिर से वही बन जाएंगे

74
शायद तुम भी मेरे गुस्से से वाकिफ नहीं हो
शायद तुम अभी मुझे जानते नहीं हो
इसीलिए इतनी ज्यादा अकड़ दिखा रहे हो
शायद तुम अभी मुझे ठीक से पहचानते नहीं हो

75
अपनी अपनी दोस्त सब बताते हैं
पर हम वह है जिसके नाम का सिक्का आज भी चलता है गुजरते हैं जब गलियों से हम तो
आज भी हर कोई हमें सलाम करता है

76
हम किसी से कोई जबरदस्ती नहीं करते
हम किसी के पास नहीं रहते
जिसे करना है बुराई करे
पर हम किसी के गुलाम बनकर नहीं रहते

77
हम तुम्हारे लिए मर जाएंगे
हम तुम्हारे लिए सब कुछ कर भी जाएंगे
पर अगर तुमने अकड़ दिखाई हमें जरूरत से ज्यादा
तो हम फिर तुम्हें तुम्हारी औकात दिखा जाएंगे

78
कुछ लोग अपने आप को पता नहीं क्या समझते हैं
खुदको बाहुबली और शेर समझते हैं
पर इनको कुछ भी आता नहीं है
और यह अपने आप को शहर का राजा समझते हैं

79
जिंदगी ऐसे ही नहीं की जाती है
जिंदगी अपने दम पर जी जाती है
लोग कैसे भी हो मुझे फर्क नहीं पड़ता
क्योंकि मेरे पास आज भी महादेव की भक्ति चली आती है

80
मैं अपने में रहता हूं और अपने में मस्त रहता हूं
किसी से बात नहीं करता
लोग कहते हैं मुझे बहुत बुरा आदमी
क्योंकि मैं कभी किसी की हां में हां नहीं करता

81
अपनी जिंदगी के सिर्फ दो ही वसूल है
पहले से मैं किसी को छोड़ता नहीं हूं
अगर कोई मुझसे बात करना चाहे तो ठीक है
वरना मैं किसी से पहले से बात करता नहीं हूं

82
लोग हमसे दूर रहना चाहते हैं
क्योंकि हमारी दोस्ती सब को नसीब नहीं होती
और जो पहले हम से दुश्मनी इस दुनिया में
उसकी फिर अगली सुबह नहीं होती

83
मैं कहां जाता हूं मैं क्या करता हूं
किसी को पता नहीं है
मैं सिर्फ अपने काम से प्रेम रखता हूं
क्योंकि मुझे किसी से ज्यादा मतलब नहीं है

84
जिंदगी बेमतलब होती है
इसे अच्छे से जीना चाहिए
अगर तुम्हारी समझ में नहीं आती कोई बात
तो हम तुम्हें समझा देंगे
पर इस तरीके से अकड़ ना दिखाओ
वरना हम तुम्हें धूल में मिला देंगे

85
अब इस तरह से मुझे जीना है
कि मुझे अब किसी के साथ बात नहीं करनी है
मैं तो अपने ही मस्ती में रहूंगा आज से
मुझे किसी से मुलाकात नहीं करनी है

86
मुझे बदमाशों सब कहा करते हैं
पर कोई यह नहीं जानता कि उसके पीछे की कहानी क्या है कैसे बना हूं इतना बुरा यह शायद लोगों की मेहरबानी है

87
जिंदगी सबको सबक सिखा जाती है
जिंदगी सबको मेहरबान कर जाती है
लोग जो कहते हैं उससे फर्क नहीं पड़ता
जिंदगी सबको अपनी असलियत समझा जाती है

88
में उनको उनकी असलियत दिखा दूंगा
और जो भी कहते हैं उन्हें पर मैं समझा दूंगा
वो नहीं जानते मैं कौन हूं
मैं उन्हें समय आने पर उनकी औकात बता दूंगा

89
इतना भी मुझको आसान न समझा जाए
इतना ही मुझको परेशान न समझा जाए
माना क्या हुआ यार मैं दुखी हूं आज
पर मुझको इस तरह से कमजोर ना समझा जाए

90
मैं अकेला ही तुम लोगों के लिए काफी हूं मैं कमजोर नहीं हूं मुझे क्या समझते हो उससे मुझे फर्क नहीं पड़ता
मैं तुम्हारे जैसा नहीं तुमसे बढ़कर हूं
तुम्हारे जैसा कोई चोर नहीं हूं

91
मेरी जिंदगी में सिर्फ दो ही लोगों को मैं महत्व देता हूं
मैं अपनी मंजिल से ज्यादा किसी की परवाह नहीं करता
अपने घर वालों के लिए करता हूं सारे काम
तुम जैसों से मैं कभी बहस नहीं करता

92
मुझसे ज्यादा उलझने की कोशिश मत करना
मुझसे ज्यादा बात करने की कोशिश मत करना
मैं अकेला ही खुश रहता हूं
वह मुझसे फिर मुलाकात करने की कोशिश मत करना

93
लोग मुझे बहुत बुरा कहते हैं
पर मुझे ऐसे बुरा नहीं लगता
क्योंकि मैं जैसा हूं वैसा ही दिखता हूं
मैं कभी भी किसी से बात नही करता

94
हम कभी भी फालतू का दिखावा नहीं करते
हम किसी से धोखा नहीं करते
जो भी कहते हैं मुंह पर कहते हैं
हम किसी से कभी भी तरह नहीं करते

95
कुछ लोग हमारी बुराई करते हैं
कुछ लोग हमसे जलते हैं
पर हम वह हैं जो हार के मुंह से भी
जीत छीन लेते हैं

96
मुझे किसी से ज्यादा कुछ मतलब नहीं रहा
मुझे अब जिंदगी में किसी से कोई शिकायत नहीं रहा
मैं तो बन चुका हूं सबके लिए बुरा
मेरे से बड़ा अब कोई बदमाश नहीं रहा

97
मुझे सिर्फ दो ही नामों से पहचाना जाता है
हर तरफ मेरी सिक्का चलता है
और मुझे सलाम किया जाता है

98
हम किसी पर जबरदस्ती हुकुम नहीं चलाते
हम अपनी बात चाहत से सबका दिल जीता करते हैं
हम अपनी मस्ती में रहते हैं
हम किसी के पीठ पीछे बुराई नहीं किया करते हैं

99
मेरी बुराई कर के भी तुम मेरा कुछ बुरा नहीं कर पाओगे
मैं तो खुश रहता हूं अपनी मस्ती में हमेशा
तुम मुझे कभी दुखी नहीं कर पाओगे

100
लोगों का क्या है लोग तो कहते हैं
उनका काम है कहना
और मैं किसी की परवाह नहीं करता
क्योंकि मेरे सर पर है मेरी मां का हाथ हमेशा रहना

101
सब लोग कहते हैं कि मैं किसी की बात नहीं मानता
क्योंकि मैं नहीं करता हूं और किसी की भी परवाह
क्योंकि मैं गुलाम नहीं हूं किसी का
इसीलिए मैं किसी के साथ अपनी दुख दर्द नहीं बांटता

102
सफर इतना भी आसान नहीं होना चाहिए
लोग इतने भी परेशान नहीं होना चाहिए
कौन क्या कहता है उससे फर्क नहीं पड़ता
जिंदगी में हमेशा कुछ लोग पास होने चाहिए

103
मुझे किसी के जाने का गम नहीं रहा मुझे
अब किसी की बातों पर यकीन नहीं रहा
मैं अब किसी से डरता नहीं हूं
क्योंकि मेरे पास अब कोई भी नहीं रहा

104
बदमाशों की बस्ती की यही पुराने अंदाज होते हैं
लोगों के दिल में बस यही ख्यालात होते हैं
लोग हमें समझते हैं हमें बुरा लेकिन
जब हम काम पड़ता है तो हम ही उनके साथ होते हैं

105
दोस्तों के लिए जान भी हाजिर है
दोस्तों के लिए कुछ भी कर जाएंगे
लोग हमें कितना भी कहले बुरा
हम दोस्तों के लिए बदमाशों से भी लड़ जायेंगे

106
हमने हमेशा अपनी सिक्का चलाया है
हमने कभी भी झुकना नहीं सीखा
हम लोगों के पास तो रहते हैं
मगर हमने कभी भी डरना नहीं सीखा

107
हम किसी से डरते नहीं हैं
हम किसी पे मरते नहीं हैं
हम तो अपने आप में खुश रहते हैं
हम किसी से मोहब्बत करते नहीं हैं

108
लोगों का अंदाज ए बयां कुछ इस तरह का होता है
कि हर किसी के पास जिगर नहीं होता है
लोग डर जाते हैं किसी की भी झूठी धमकी से
हर किसी के पास हमारे जैसा बाहुबल नहीं होता

109
लोग जो भी कहे वह कहते रहे
मुझे किसी से क्या लेना देना है
मैं तो सिर्फ और सिर्फ अपने बारे में सोचता हूं
मुझे नहीं है अब किसी से कोई मतलब
और मैं हूं अगर बदमाश तो ठीक है
कम से कम में किसी की बुराई नहीं करता अब

110
मेरी बुराई करने से तुम्हें क्या मिल जाएगा
मुझे धोखा देने से तुम क्या मिल जाएगा
मैं तो उड़ता परिंदा हूं लौट आऊंगा एक दिन वापस
पर तुम्हें मेरे से दुश्मनी मोल ले कर क्या मिल जाएगा

111
तुम मेरे साथ नजर खुश नहीं रह सकते
तो फिर तुम कभी खुश नहीं रह पाओगे
माना कि मैं बहुत बुरा आदमी हूं
पर तुम को मेरे जैसा और कोई
मोहब्बत का रिश्ता निभा नही पाओगे

112
हम अगर थोड़ा सा भी किसी से कुछ कह दे
तो हमें बुरा बता दिया जाता है
हम बुरा नहीं बनना चाहते हैं
फिर भी हमें बुरा बना दिया जाता है

113
जिंदगी इस तरह से जीनी चाहिए
हमेशा खुश रहने चाहिए
लोग क्या कहते हैं हमारे बारे में हम नहीं सोचते
क्योंकि हमे हमेशा हमारे पेरो पर चलना चाहिए

114
किसी के साथ रिश्ता निभाना हमें भी आता है
हमें भी लोगों का मुंह बंद करना आता है
पर हम नहीं जानते किसी से ज्यादा कुछ
क्योंकि हमें अपने दम पर जीना आता है

115
यह जो आजकल के लड़के नए नए हमें धमकी दिए जा रहे हैं फोन पर अपनी बातें और अपनी अकड़ दिखाई जा रहे हैं मिलना किसी दिन हम से हम तुम्हें अकेले में बता देंगे
कि तुम क्या हो हमारे सामने जो ये भाषण सुनाए जा रहे है।

116
अपनी जिंदगी इस तरीके से जिएंगे
कि सब हम पर नाज करेंगे
अगर हम मर भी जाएंगे तुम तो क्या हो गया
हम लोगों के दिलों पर राज करेंगे

117
आज भी लोग हमारी इज्जत करते हैं
आज भी लोग हमसे मोहब्बत करते हैं
लोग क्या चाहते हैं यह तो हमें नहीं पता
लेकिन आज भी लोग दिल से हमारी कद्र करते हैं।

118
मैंने अपने लिए सब के दिलों में इज्जत कमाई है
अपने लिए मोहब्बत कमाई हैं
लोग कहते हैं क्या है मेरे पास तो
मैंने लोगों की दुआएं कमाई है

119
किसी की बद्दुआ का असर बहुत बुरा होता है
इसीलिए हम किसी का बुरा नहीं करते
और जो सोचता है हमारे बारे में बुरा
हम फिर उसको बख्शा नहीं करते

120
अगर कोई आज भी हमारे पास आता है
तो कभी खाली हाथ नहीं जाता
हमने दोनों हाथों से लुटाई है दौलत
कोई हमसे ज्यादा रहीस नहीं रह जाता

121
पैसों की अकड़ अगर हमें ना दिखाओ तो अच्छा है
हम तुम्हारे साथ तुम्हारा खानदान खरीद सकते हैं
और तुम क्या लगते हो हमारे आगे
हम तुम्हे भी खरीद सकते है

122
अगर तुम तुम्हारी बर्बादी नहीं देखना चाहते
अगर तुम खुद से मरना नहीं चाहते
तो हमारे रास्ते को छोड़ दो
और चले जाओ अपनी गलियों में
अगर तुम हम से उलझना नहीं चाहता

123
याद रखना तुम मुझसे जीत नहीं पाओगे
मैं तो हूं एक हवा का झोंका तुम मुझे भुला नहीं पाओगे
और मैं हमेशा जलता रहूंगा तुम्हारे सीने में
तुम मेरा कभी कुछ बिगाड़ नहीं पाओगे

124
मेरी जिंदगी में किसी की कोई जगह नहीं है
जो मुझे देता है धोखा उसके लिए मेरे पास माफी नहीं है
और चले जाओ आज तुम तो अच्छा होगा
वरना मेरे दिल में तुम्हारे लिए प्यार भी नहीं है

125
यह बदमाश हो तुम हमें नहीं दिखाओ तो ही अच्छा है
तुम यहां से चले जाओ तो ही अच्छा है
क्योंकि अगर हमें आ गया गुस्सा एक बार
तो पता नहीं हम जा कर बैठेंगे
और तुम अपना सब कुछ भूल जाओ तो यह अच्छा है

126
जिंदगी का सफर कितना सुहाना होता है
यह मालूम नहीं था लोग हमारे साथ कैसे कैसे होते हैं
यह मालूम नहीं था हम क्या चाहते हैं
यह तो किसी को पता ही नहीं है
पर फिर भी हमारे दिल में किसी के लिए नफरत नहीं है

127
बदमाशों की बस्ती में एक ही रोना है
तू चला गया तो फिर तेरे पीछे कौन होना है
इसीलिए अपनी ज्यादा अपना और अपना नाम चलाओ
ताकि लोग तुम्हारे बाद भी तुम्हें याद करे
कुछ ऐसा काम करके तुम सबको दिखाओ

128
कुछ ऐसा काम करके दिखा देंगे
लोगों को अपना नाम करके दिखा देंगे
हमारे बाद भी हमारे चर्चे होंगे यहां पर
हम कुछ आपकी जिंदगी में ऐसा करके बता देंगे

129
एक से जिंदगी मिली है मुझे
इसीलिए मैं कभी किसी के रहमों करम पर नहीं पलता
अपने दम से खाता हूं और अपने तन से कमाता हूं
मैं कभी किसी की बुराई नहीं करता

130
किसने गुलामी करना मुझे आज तक नहीं आया
ना ही किसी से मुझे मोहब्बत करना आया
मैंने जिसको भी चाहा दिल से अपना उसने मुझे धोखा दिया इसीलिए ही तो आज मुझे बुरा कहा जा रहा है
और मेरा बदमाशों में नाम आ रहा है

131
हम यही हैं और हम नहीं रहेंगे
हम किसी से कुछ भी मोहब्बत करना नहीं चाहते
हम चाहते हैं कि सब रहे हैं जैसे ही
हम किसी से प्यार वफ़ा करना नहीं चाहते

132
मेरी इज्जत को तुम अपना घमंड समझ बैठे हो
लेकिन वह घमंड नहीं है मैं सिर्फ अपने आप में रहता हूं
मैं बात नहीं करता लोगों से इसलिए मैं सब से दूर रहता हूं

133
जो लोग अपने आपको ज्यादा समझ रहे हैं
जो लोग अपने आप को भगवान समझ रहे हैं
उन लोगों को बस इतना ही कहना चाहूंगा
कि तुम अपने हद में रहो वरना मैं भूल जाऊंगा तुम कौन हो
मेरा कुछ जाएगा नही तुम्हारा कुछ रहेगा नही

134
तुम अपनी औकात में रहो तो ही अच्छा है
वरना हम भूल जाएंगे तो तुम बच नहीं पाओगे
इसीलिए तुम्हारा हमसे दूर रहना ही अच्छा है

135
मुझसे दूर रहोगे तो पछताओगे नही
मेरे पास आओगे तो फिर बच पाओगे नही

136
कभी-कभी तो लगता है कि लोग मेरे से डरते हैं
और फिर मुझे पता चला कि वह तो मेरी इज्जत करते हैं
क्योंकि मैंने कमाई है इज्जत अपने नाम से
किसी के बाप से नहीं डरता मैं डरता हूं सिर्फ भगवान से

137
कभी नहीं डरूंगा किसी से
ना ही किसी से लड़ाई करूंगा
पर जो मुझे सताएगा
फिर मै उसका हिसाब खुद करूंगा

138
जिंदगी इतना है कि सफर आसान हो जाता है
हमारे यहां पर कोई सब परेशान हो जाता है
लोग चाहते हैं क्या हमें पता नहीं होता
क्योंकि लोगों के दिल से कभी भी बेईमान निकल जाता है

139
हम बेईमानी भी नहीं करते
हम किसी को परेशान भी नहीं करते
हम तो बस अपने आप में रहते हैं
हम किसी से ज्यादा मुलाकात नहीं करते

140
हमारी self-respect को इन्होंने अकड़ समझ लिया है
और इनकी बेइज्जती को हमने फिर अलग ही तरह से लिया है बहुत ही बुरा कर सकता हूं मैं तुम्हारा याद रखना
क्योंकि तुमने तुम्हारे बाप से पंगा लिया है

141
मेरे से पंगा मत लेना मेरे से दूर ही रहा करो
मैंने कितनी बार कहा है तुमसे कि
तुम मुझसे बात मत किया करो
मुझे गुस्सा बहुत जल्दी आता है
इसीलिए तुम मेरे से गलत समय
पर मुलाकात मत किया करो

142
तुम्हारे लिए आसान होगा मुझसे दूर जाना तो जा सकती हो
मैं तुम्हें कभी भी कुछ नहीं कहूंगा
पर याद रखना मैं तो अपने आप में रहता हूं
कभी भी जब तुमसे बात नहीं करूंगा

143
जब जब मुझे लोगों ने बुलाया है
मैं उनकी मदद के लिए हाजिर हो जाता हूं
पर जब मुझे चाहिए किसी की मदद तो कोई नहीं आता इसीलिए मैं अब किसी से बात नहीं करता
तो सबके लिए बदमाश हो जाता हूं

144
लोग मुझे नए नए नाम देते हैं
कभी नवाब तो कभी बदमाश कहते है
पर मुझे किसी की बातों से बुरा नहीं लगता
क्योंकि लोग कुछ जानते नहीं है मेरे बारे
में उन्हें जितनी औकात है वह उतना ही समझते हैं

145
लोगों की औकात से बढ़कर मैंने उन्हें करके दिखाया है
जो लोग कभी खड़े नहीं होते थे मेरे सामने
मैंने उनको भी गले से लगाया है

146
जिंदगी ऐसे ही चलती जाएगी
हम नाम ऐसे ही बनाते जाएंगे
लोग कुछ भी कहें हमें फर्क नहीं पड़ता
हम अपने दम पर जीते हैं किसी के पास नहीं जाएंगे

148
सफर क्या होता है सफर कैसे चलता है
यह तो मैं नहीं जानता पर
मैं सिर्फ खुद के अलावा और किसी को नहीं पहचानता
जो लोग चाहते हैं बुरा मेरा मै उनसे भी कुछ नहीं कहता
क्योंकि मैं जानता हूं सबकी असलियत
इसलिए किसी के मुंह नहीं लगता

149
बुरा बुरा सोच कर भी तुम मेरा कितना बुरा बुरा लगे
तो मेरा बुरा कर नहीं पाओगे मै तो बदमाश हूं
तुम मेरा क्या उखाड़ लोगे तुम मुझे हरा नहीं पाओगे

150
तुम मेरा घंटा कुछ कर नहीं पाओगे
तुम मेरा एक वार भी संभाल नहीं पाओगे
जो तुम कहते रहते हो बार-बार कि आ जाओ तुम्हें देख लेंगे जिस दिन मैं आ गया तुम दुम दबाकर भाग जाओगे

151
अब मैं लोगो की आंखों मै खटकने लगा हूं
क्युकी खुद की दम पर आगे बढ़ने लगा हूं
इसलिए लोग मुझे बदमाश कहते है
क्युकी मै उनको जवाब देने लगा हुं।

152
जब तक मैं लोगों का अच्छा करता रहा मैं अच्छा बनता रहा जिस दिन मैंने लोगों को काम करने से मना कर दिया
मै उसके लिए बुरा बन गया तो ठीक है मैं अब बुरा ही अच्छा हूं तुम मेरे से अच्छा ढूंढ लेना मेरे बाद
मै तो बदमाश हू बहुत तुम कोई शरीफ इंसान ढूंढ लेना

Final Words:

So friends these are the best attitude badmashi Shayari in Hindi. We hope that you loved all these Shayari and if yes and please help us by giving this post 1 like and don’t forget to share it with your friends. Last but not least please share your thoughts and feedback in the comment section below.

Leave a Comment

Your email address will not be published.