Friendship Shayari in Hindi | दोस्ती शायरी | दोस्तों के लिए शायरी

Dosti Shayari in Hindi – Hi friends how are you all in this post I am going to share dosti shayari in Hindi. Friendship is the most important thing in our life and we all have beautiful friends in our life.

So in this post we are going to share best friendship shayari in Hindi which you can share with your friends on Facebook and WhatsApp.

I am hundred percent sure that your friends will really like your dosti shayari collection and they will really appreciate your friendship.

So without wasting any time let’s start this post and read some of the best Dosti and friendship shayari in Hindi.

Friendship Shayari in Hindi

दोस्ती शायरी | फ्रेंडशिप शायरी | दोस्तों के लिए शायरी

Friendship shayari in hindi

1
कुछ इस कदर निभाएंगे दोस्ती को
एक मिसाल बन जाएगी
लोग देखकर कहेंगे हमें
इन दोनों की जोड़ी धमाल मचाएगी।।

2
किस्मत से हम क्या कहें
उसने बिन मांगे सब दिया है
आप जैसा दोस्त पाकर
जिंदगी को जन्नत किया है।।

3
दोस्ती हमारी यूं ही सलामत रहे
इसे किसी की नजर ना लग जाए
जो देखे हमें देखता ही रहे
इस प्यार को किसी की नजर ना लग जाए।।

4
हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं
हर वक्त ख्याल रखते हैं हमारा
वो दिल से बहुत सच्चे हैं
देते हैं हर वक्त साथ
क्योंकि हम दोस्ती में थोड़े कच्चे हैं।।

5
हम तो लिखेंगे दोस्ती का अफसाना
कौन कुछ कर ना पाएगा
और जो लेगा हमसे टक्कर
वह कभी बच ना पाएगा।।

6
हर वक्त साथ दिया हर मुश्किल से बचाया है
मेरे दोस्त ने मेरा तन्हाई में भी साथ निभाया है।।

7
दोस्ती ही वो खुदा का तोहफा है
जो उसने हमें दिया है
लेकर गम सारे हमारे
हमें दोस्त का साथ दिया है।।

8
मोहब्बत की बातें हमें समझ नहीं आती
हमने तो बस दोस्ती को देखा है
दोस्त में ही प्यार और मोहब्बत का खुमार देखा है।।

9
दोस्ती वो फूल है
जिसकी खुशबू हर किसी को नसीब नहीं होती
आजकल सच्चे दोस्त मिलना मुश्किल है
पर जिनको मिलते हैं उनकी जिंदगी कभी बर्बाद नहीं होती।

10
मुश्किलों में हमेशा खड़ा रहा
आए मुसीबत कोई सी भी
मेरा दोस्त उसके सामने चट्टान की तरह खड़ा रहा।।

11
तू ही मेरी दुनिया तू ही मेरी जान है
तुझसे है दोस्ती इसीलिए मेरा मान है
रहना साथ तू हमेशा मेरे
ए दोस्त तू ही मेरी खुशियों का सामान है।।

12
दोस्ती में कभी तेरा मेरा नहीं होता
दोस्त रहता है पास तो कभी अंधेरा नहीं होता
रखता है वो हमें हर बला से बचाकर
उसके बिना जिंदगी का सवेरा नहीं होता।।

13
बचपन से लेकर अब तक दोस्ती निभाई है
तू मेरा जान से बढ़कर सगा भाई है
लोग खाते हैं कसमे दोस्ती की
तूने तो मेरे लिए अपनी जान दांव पर लगाई है।।

14
जब लड़ाई होती है सबसे पहले आता है
तू होता है तो मुझे कोई हाथ नहीं लगा पाता है
रहते हैं सब मुझसे दूर इस कदर
कोई मेरी तरफ नजर भी नहीं उठा पाता है।।

15
तू तो वो कोहिनूर है जो आसानी से नहीं मिलता
लोग मिल जाते हैं बहुत पर तेरे जैसा दोस्त नहीं मिलता
तू ना रहा कर कभी उदास
तेरे जैसा दोस्ती का हमसफर नहीं मिलता।।

16
हर परेशानी के सबक में तू याद आता है
जब आती है मुसीबत तू दौड़ा चला आता है
तू ही एक सच्चा यार है मेरा
हर वक्त मेरा साथ निभाता है।।

17
तूने दोस्ती का हर फर्ज निभाया है
मेरे लिए प्यार भी जताया है
कभी जब होती है मुझे जरूरत पैसों की
तूने हर वक्त मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाया है।।

18
दोस्ती में लड़ाई झगड़े आम बात होती हैं
फिर भी हम दोनों हमेशा एक दूसरे के साथ होते हैं
देखकर जल जाते हैं लोग हमारी दोस्ती को
जब एक दूसरे के कंधे पर हमारे हाथ होते हैं।।

19
तेरी यारी ने ही तो मुझे जीना सिखाया है
जब कोई नहीं था मेरे पास तब भी तू आगे आया है
देकर मुझे खुशियां सारी दुनिया की
तूने मुझे अपना दोस्त बनाया है।।

20
बचपन की मस्ती भी है,
वो झगड़े वाला प्यार भी है
तू दोस्त है मेरा जिगरी,
तू ही मेरा सबसे बड़ा यार भी है।।

21
कॉलेज की दोस्ती भी कितनी अजीब होती है
मस्ती होती है साथ में यादे रंगीन होती हैं
जब तू रहता है मेरे साथ
तो हमारी शामें भी हसीन होती हैं।।

22
सुख दुख में भी तू हमेशा मेरे साथ है
इसीलिए तो दोस्त तू सबसे ज्यादा मेरा खास है।।

23
दुनिया भी याद रखेगी हमारी दोस्ती को
ऐसी मिसाल बन जाएंगे
हम मरते दम तक, एक दूसरे का साथ निभाएंगे।।

24
इत्तेफाक से मिले थे अनजान बनकर
कब जान बन गए पता ही नहीं चला
राह में तो मिलते हैं बहुत अनजान
तुम कब दोस्त बन गए पता ही नहीं चला।।

25
दूर भले ही वो रह ले मुझसे
पर कभी साथ छोड़कर नहीं जाता
दोस्त ही वो इंसान है जो हमेशा साथ निभाता।।

26
तू भी लाजवाब है तेरी दोस्ती भी कमाल है
हम दोनों की जोड़ी बेमिसाल है
रहता है तू भी मेरे दिल में
मेरा जिगरी यार एकदम बवाल है।।

27
तेरी दोस्ती को कभी शर्मिंदा नहीं करूंगा
ए दोस्त मै तुझसे कभी दगा नहीं करूंगा
दिया है जो तूने हर वक्त साथ मेरा
मै भी तेरे लिए रब से दुआ करूंगा।।

28
दोस्त तो है बहुत पर तुम उन सब में अनमोल हो
मै तुम्हारा दोस्त हूं ये मेरी किस्मत है
हर बात पर मजाक करना तुम्हारी आदत है ।
अगर ना समझू में कुछ तो समझा देते हो
हर वक्त मुझे प्यार जता देते हो।।

29
ये दोस्ती यूं ही कायम रखना
कभी टूट ना जाएं
तेरा मेरा साथ बना रहे ऐसे ही
ये कभी छूट ना जाएं।।

30
हर तरफ से जब कोई नहीं आया
तब तेरा साथ मिला है मुझे
हर ग़म भरी परिस्थिति मै
तेरा हाथ मिला है मुझे।।

31
तेरी खुशियों की तलाश हमेशा रहती है
रहे सदा हसंता तू यही चाहत रहती है
मेरी खुशियां भी तुझे मिल जाएं
ये ही रब से आस रहती है।।

32
दोस्ती की है तो निभाएंगे भी सही
कभी आई मुश्किल तो साथ निभाएंगे भी सही
बस तू रहना हमेशा खुश मेरे दोस्त
तेरे लिए अपनी जान दांव पर लगाएंगे भी सही।।

33
हीरे की कीमत जोहरी को पता होती
मेरी कीमत मेरे दोस्त को पता होती है
वो नहीं देता मुझे दगा कभी
उसके आने से जीवन में मेरे खुशियां हजार होती है।।

34
तुम्हे लफ्जो मै लिख दू तुम ऐसी शख्सियत कहां हो
कद्र दिल से है इसीलिए तुम वहां हो।।

35
मेरी उम्मीदों का संसार
मेरी डूबती कश्ती का किनारा हो
इस दुनिया मै ए मेरे दोस्त
तुम ही मेरा इकलौता सहारा हो।।

36
हर तरफ जो मिल रहा है ग़म
तुझे वो कभी ना देंगे
तेरा हाथ ना छोड़ेंगे कभी
तुझे जिंदगी मै दगा नहीं देंगे।।

37
सदा खुश रहे तू, यही तमन्ना रहती है
तेरी खुशियों मै ही हमारी चाहत रहती है
तेरी दोस्ती की करते है हम इबादत
तेरे होने से ही हमारी महफ़िल की शान रहती है।।

38
दोस्ती क्या होती है हम नहीं जानते थे
पर जब से तू मिला मुझे यकीन हो गया।।

39
मेरे दोस्त के जन्मदिन पर उस खुशियां हजार मिले
उसे उसके सपनों को संसार मिले
वो खुश रहे हमेशा अपनी जिंदगी मै
उसे सबका इस कदर प्यार मिले।।

40
दोस्त तो सब होते है पर तू सबसे बढ़कर है
तू मेरा जिगरी यार है सबसे हटकर है
तेरे होने से होती है मेरी पहचान
तू मेरा भाई ना होकर भी मुझे भाई से बढ़कर है।।

41
तेरी दोस्ती जब से मेरी किस्मत मै आई है
हर ग़म दूर भाग गया मुझसे,खुशियों की बाहर आई है
तेरा जैसा दोस्त पाकर, खुदा ने मुझपर रहमत बरसाई है।।

42
जब तक दोस्त साथ रहेगा ये वक्त भी गुजर जाएगा
बुरा से बुरा तूफान भी आगे बढ जाएगा
रहेगा मेरे उपर खुद की रहमतों का असर
जब तेरे जैसा दोस्त जिंदगी मै बाहर बनकर आएगा।।

43
कौन जाने हम कहा जाएंगे
तूफ़ानों की किस कश्ती मै बह जाएंगे
बस तेरा साथ रहे इतना ही काफी है
हम दुनिया के हर भंवर से बच आयेंगे।।

44
दूर से देखा तो लगा खूबसूरत नजारा
पर पास से रेत को ढेर निकला
जिस दोस्त को समझा था हमदर्द हमने
वो तो बड़ा धोखेबाज निकला।।

45
तेरी दोस्ती पर क्यों ना गुमान करू
खुदा ने तेरे जैसा दोस्त जो दिया है
तू रहता है पास मेरे हमेशा
खुद ने चांद से प्यार दोस्त दिया है।।

46
तेरी दोस्ती पर नाज है मुझे
बस तू ये दोस्ती निभाए रखना
कोई रहे या ना रहे मेरे साथ
बस तू हमेशा मुझे याद रखना।।

47
दोस्त होते है तो माहौल बन जाता है
रोनक होती है उनसे हर तरफ मिजाज बन जाता है
कोई ना भी रहे साथ महफ़िल मै
उनके होने से जैसे घरती पर चांद उतर आता है।।

48
वो साथ मै चाय की चुस्की
वो आवारागर्दी आज भी याद है हमे
तेरे संग बताया हर एक पल
आज भी याद है हमें।।

49
तेरी दोस्ती को क्या मिसाल दूं
तू तो उस रब का दिया हुआ तोहफा है
दोस्त नहीं है तू मेरा
मेरे जिगर जान का इकलौता टुकड़ा है।।

50
दोस्ती में ऊंच-नीच नहीं देखा जाता
अमीरी गरीबी का फर्क नहीं देखा जाता
दोस्तों होता है जान सबकी
उसमें कभी भेदभाव नहीं किया जाता।।

51
तू साथ रहेगा तो हर तूफान से लड़ जाऊंगा
तेरे लिए तो मैं खुदा से भी भिड़ जाऊंगा
बस तू साथ रहना हमेशा
मैं अपनी दोस्ती का हर एक वादा निभाऊंगा।।

~School wali friendship shayari~

52
स्कूल की दोस्ती भी अजीब हुआ करती थी
साथ में दोस्ती और मस्ती हुआ करती थी
ना किसी की फिक्र ना गम किसी का
बस मौज मस्ती ही जिंदगी हुआ करती थी।।

53
कुछ दोस्तों का साथ छूट गया स्कूल से जाने के बाद
उनकी सिर्फ याद ही रह गई अब बस्ते में
और जो कहा करते थे नहीं भूलेंगे कभी
उनकी तस्वीर रह गई है बस अब जहन में।।

54
कभी टीचर के साथ मस्ती करना
कभी पागलों की तरह लड़ना झगड़ना
हर वो अफसाना याद आता है
ए दोस्त मुझे तेरा याराना याद आता है।।

55
उस जमाने की बात निराली थी जब छोटे हुआ करते थे
अपनी मस्ती और धुन में सवार रहा करते थे
दोस्ती को ही माना करते थे खुदा हम
दिल में जज्बात और सीने में प्यार लिए चला करते थे।।

56
वो स्कूल की दोस्ती और वो याराना
आज भी याद आता है मुझे गुजरा हुआ जमाना।।

57
क्या क्या सपने देखा करते थे हम
जब बड़े हो जाएंगे तो बाहर जाएंगे
पर नहीं पता थी हमें यह बात
हम दोस्तों से इस कदर बिछड़ जाएंगे।।

58
छोटी-छोटी बातों पर लड़ जाना
और जल्दी से सुलह हो जाना
बचपन की दोस्ती में ही था
वो प्यार वाला अनमोल खजाना।।

59
अब क्या लिखे हम उस दौर के बारे में
जिसे पीछे छोड़ आए हैं
दोस्ती करते थे हम जिनसे
उनसे अपना नाते तोड़ आए हैं।।

60
खुशियां ना मिले मुझे इस जहां में, गम नहीं
पर वो पुरानी दोस्ती की याद मिल जाए
कर सके अगर खुदा मेरे लिए कुछ
तो वो बचपन वाली दोस्ती वापस मिल जाए।।

61
कभी तेरा प्यार कम ना हुआ मेरे लिए
कभी ना हमारी दोस्ती में दरार आई
तेरे लिए मैं सदा था तैयार
जब भी तुझे मुसीबत आई।।

62
एक दूसरे को भाई कहकर बुलाना
कोई आंखें दिखाएं तो उस से लड़ जाना
प्यार मोहब्बत साथ में करना,,,
वह स्कूल वाली दोस्ती का था
अपनी यादों का एक अलग झरना।।

63
जब भी वो बचपन वाले दोस्त वापस मिलते हैं
अक्सर वही बातें हुआ करती हैं
मिलकर उनसे वापस इस जमाने में
उस जमाने की यादें ताजा हुआ करती हैं।।

64
अब तो सब बिछड़ गए किसी के पास टाइम ना रहा
वो बचपन वाली दोस्ती अलग थी
अब ऐसा मेरा कोई दोस्त ना रहा।।

65
डेली जल्दी स्कूल पहुंच जाना
लास्ट बेंच पर कब्जा जमाना
फिर पीछे बैठकर लंच में टिफिन खाना
वही थी दोस्ती और वही था असली याराना।।

66
किसी और से दोस्ती हो जाने पर चिढ़ जाना
अपने दोस्त को हमेशा बचाना
कभी करना उसके साथ मस्ती और मजाक
तो कभी कंधे पर हाथ डालकर पूरा स्कूल घुम आना।।

67
हाथों में हाथ था तेरा ही साथ था
दोस्ती थी हमारी सबसे अलग
तभी सारे जमाने को हम पर नाज था।।

68
तेरी मेरी दोस्ती के चर्चे भी बहुत हुए हैं
लोग जल जल कर धुआ भी हुए हैं
हमने नहीं कि कभी किसी की फिक्र
तभी तो हमारी दोस्ती के जलवे हर और हुए है।।

69
स्कूल में थे तब भी दोस्ती वही थी
आज भी दोस्ती वही है
जब तक रहेगा दिल में प्यार हमारे
बुढ़ापे तक भी हमारी दोस्ती वही है।।

70
स्कूल में आज भी हमारे नाम के चर्चे हैं
लोग डरते हैं हमसे क्योंकि
हमारे दोस्त हमसे भी अच्छे हैं।।

~yaaron ki yaari friendship shayari~

71
तेरा मेरा याराना दुनिया को बहुत खलता है
तेरे जैसा दोस्त है मेरे पास तभी तो जमाना डरता है
तू रहना साथ हमेशा मेरे इसी तरह
तभी तो हमारी दोस्ती का डंका पूरे शहर में बजता है।।

72
तेरी यारी को ही मैंने खुदा माना है
तेरे जैसे दोस्त को ही मैंने अपना माना है
ऐसे तो आए गए हैं बहुत मेरी जिंदगी में
पर तेरी यारी को मैंने अपनी जान माना है।।

73
हमारी दोस्ती यारी को किसी की नजर ना लगे
दोस्ती रहे हमेशा यूं ही अटूट किसी की बद्दुआ ना लगे
सब करते हैं सलाम हमारी यारी को
हम दोनों के प्यार को किसी की बुरी नजर ना लगे।।

74
जब भी में होता हूं उदास तेरे पास चला आता हूं
तेरे संग ही अपना पूरा वक्त बिताता हूं
तू ही साथ रहता है मेरे हमेशा
इसीलिए तो मैं तुझसे दोस्ती निभाता हूं।।

75
दुनिया हमारे तेवर से जलती है
क्योंकि आप जैसे दोस्तों में हमारी जान बसती है।।

76
यार हम साथ-साथ बड़े हुए
यारी हमारी बहुत पुरानी है
दुनियां भी याद रखेगी हमारी दोस्ती को
ऐसी हम दोनों की कहानी है।।

77
मैं तो क्या लिखूं हमारी दोस्ती के बारे में
तुझे तो सब कुछ पता होता है
मैं ना जानू हाल अपने दिल का भी
पर तुझे मेरे बारे में सब पता होता है।।

78
यूं ही चलता रहे याराना हमारा
कभी ना हम पीछे मुड़कर देखें
मंजिलों पर बढ़ते जाए यूं ही आगे
हम एक दूजे का सहारा लेकर देखें।।

79
झूठे वादे कसमें नहीं खाता मैं
जब भी जरूरत पड़े याद कर लेना
अगर ना आऊ वक्त पर में कभी
तो तू मेरी दोस्ती पर शक कर लेना।।

80
टोली जब हम दोस्तों कि साथ चलती है
सब रास्ता छोड़ देते हैं
किसी की नहीं होती हिम्मत आंख उठाने की
सब अपने कदम पीछे मोड़ लेते हैं।।

81
फेमस था हमारा पूरा कॉलेज मै याराना
हर पल हमें साथ रहना और दोस्ती निभाना
दोस्तों के लिए जान भी हाजिर कर देते थे
ऐसा यादगार था वह कॉलेज का जमाना।।

82
वो प्यार भरी शामें,वो रूठना और मनाना
कोई भी फंक्शन हो कॉलेज में
हर एक में धूम मचाना, कॉलेज नहीं था
वो था मस्ती का खजाना।।

83
दोस्ती थी हमारी सबसे अलग
इन दूसरे की जान थे हम
कॉलेज में सब जानते थे हमको
एक दूसरे की पहचान थे हम।।

84
हर एक लम्हा हमने साथ जिया है
दोस्तों हूं से लेकर था,
तक का सफर भी तय किया है
फितरत ए दोस्ताना इस किरदार में कमी रह गई
कुछ बातें अधूरी और आंखों में नमी रह गई।।

85
वह अल्हड़पन और वह मस्ती हमें गवारा था
वो दोस्ती कैसी भी थी हमें वो वक्त ही प्यारा था।।

86
हम अच्छे दोस्त बन पाए या नहीं, कह नहीं सकते
पर तूने दोस्ती का हर फर्ज अदा किया है
अपने साथ लेकर तूने मुझे
हर मुश्किल डगर को आसान किया है।।

87
शब्द ही नहीं अल्फाज ही नहीं
मेरी शायरी में वो आवाज ही नहीं
कर सके हमारी दोस्ती को जो बयां
आज तक वैसी कोई किताब ही नहीं।।

88
ए दोस्त बस तू हमेशा खुश रहना
यही मेरी चाहत है
बना रहे सदा ईश्वर का आशीर्वाद तेरे ऊपर
तू मेरा जिगरी यार मेरा साथी है।।

89
फितरत ना थी मेरी की बिल्कुल भी की बदल जाऊंगा
पर तेरी दोस्ती ने मुझे बदला है
रहा करता था पहले मैं दुखी और उदास
तूने मेरी शामों को हंसी मजाक में बदला है।।

90
यारी अपनी ऐसे ही चलती रहे
दुनिया जलती है तो जलती रहे
हमें फिक्र नहीं किसी की अब
हमारी दोस्ती यूं ही जवां रहे।।

91
मैं गरीब था तूने एहसास ना होने दिया
मेरी दोस्ती को तूने बदनाम ना होने दिया
साथ दिया तूने हर पल मेरा
तूने मेरी जिंदगी को बर्बाद ना होने दिया।।

92
वो बाइक पर घूमने जाना
शामो को रास्तों पर टहलने जाना
बातें करना ढेर सारी
एक दूसरे का मजाक उड़ाना
फिर लड़ झगड़ कर प्यार से गले लग जाना
इसी तरह हमें हर पल दोस्ती निभाना।।

93
बागों में फूलों की कली है दोस्ती
महके जो हर पल वो गुलाब है दोस्ती
अंधेरे में रोशनी तो, ना उम्मीदी में उम्मीद है दोस्ती
दर्द में भी प्यार बनकर हमें हंसा जाए
हर रिश्ते से बढ़कर है दोस्ती।।

94
तेरे जैसा कमीना दोस्त मेरे पास है
तभी तो हर गम मुझसे उदास है
मैं क्यों रहूं दुखी
जब हर परेशानी का तू बाप है।।

95
यारा कभी हमारी दोस्ती पर शक हो तो आजमा लेना
जब दुनिया मार दे ठोकर हर जगह से तब अजमा लेना
जब कोई ना हो तेरे पास तब मेरे पास आना
अंधेरे में भी हमें रोशनी की तरह आजमा लेना।।

96
रिश्तेदारों से बढ़कर तो दोस्त होते हैं
हर टाइम अपने लिए खड़े रहते हैं
सगा भाई हो ना हो
पर वो भाई की तरह हमारा ख्याल रखते हैं।।

97
तेरे लिए रब से अरदास की है
ईश्वर से प्रार्थना की है
रखना मेरे दोस्त को हमेशा खुश
तेरी सारी बुरी बलाए है मैंने ली है।।

98
तुम रहो खुश हमेशा यही हमारी तमन्ना है
साथ रहोगे हमेशा पता है मुझे
दूर भले ही हो पर हमेशा दिल में रहते हो
तुम वो दोस्त हो जो सबसे पास नहीं होता
बुरा लगता है उस दिन जिस दिन तू उदास होता है।।

99
तेरी दोस्ती ही वो एहसास है
जो मेरे लिए सबसे खास है
खुदकिस्मत है हम
जो आपके जैसा दोस्त हमारे पास है।।

100
अनमोल है मेरे पास खजाना
जो खुदा ने मुझे बख्शा है
देकर हीरे जैसे दोस्त मुझे
मेरे किस्मत को तराशा है।।

101
दोस्ती कोई जागीर नहीं होती
ये तो दिलों के रिश्ते होते है
जुड़ जाते है अनजाने मै उनसे
जो लोग अपने होते है।।

102
दोस्ती का मतलब सच्चा दोस्त ही जानता है
वो ही हमारी हर तकलीफ पहचानता है
जो समझ ना कोई हमारे दर्द को
वो हर दर्द का इलाज जानता है।।

103
कुछ दोस्तों धोखेबाज भी होते है
मै अब उनसे दूर रहता है
मतलब मै लिए करते है जो दोस्ती
मै उनकी परछाई से भी दूर रहता है।।

104
मुझे गम हजार मिल जाएं कोई दर्द नहीं होता है
क्युकी मेरा दोस्त हमेशा मेरे साथ खड़ा होता है।।

105
ये जिंदगी का सफर भी हसीन लगता है
जब दोस्ती का जुनन चढ़ने लगता है
हर रास्ते पर मिलती है खुशियां
जब दोस्त हमारे साथ चलता है।।

106
दोस्तों मै मजाक करना आम बात होती है
शरारतें उनकी बहुत खास होती है
हर पल हंसा देते है वो हमें
दोस्ती वो अटूट पाश होती है।।

107
कभी नदी किनारे जाना
कभी ठंड मै चाय पीने जाना
चाय की टपरी पर बैठकर वो ठहाके लगना
एक दूसरे का मजाक बनकर खुद हंसना
फिर एक दूसरे को बहुत चिढाना
ऐसा ही होता है दोस्ती का यादगार जमाना।।

108
तू कहां चला गया ए दोस्त
तेरी कमी बहुत सताती है
जिस दिन बात नहीं होती तुझसे
मुझे नींद कहा आती है।।

109
नाम से नहीं चलता दोस्ती का सिक्का
दिलो में प्रेम रहना जरूरी है
और जो कहते है मेरे दोस्तो को बुरा
उनका अब मरना जरूरी है।।

110
तेरी दोस्ती पर मुझे नाज है
भरोसा है तुझ पर बहुत तू मेरा खास है
ना जाना दिल तोड़कर कभी
तेरे जैसे दोस्त के प्यार का मुझे एहसास है।।

~Frindship sad shayri~

111
सब मतलबी हों गए है अब
कोई मिलने नहीं आता
काम पड़ता है जब याद करते है
ऐसे कोई कॉल भी नहीं लगाता।।

112
दोस्त भी पीछे छूट गए
हमसे इस कदर नाते टूट गए
अब तू मिलने पर मुंह फेर लेते है,
जिनको कहा करते थे हम जिगरी यार,
अब वो हमें कब का भूल गए है।।

113
तेरे साथ बिताया हुआ हर लम्हा याद आता है
तेरी यादों का जकिरा बड़ा सताता है
जब नहीं रहा कोई साथ मेरे
तेरा दर्द हर वक्त रुलाता है।।

114
तू भी चला गया दोस्ती तोड़कर
हमने भी मुड़कर पीछे नहीं देखा
दिया था तूने धोका मुझे
हमने भी तुझे कभी आसपास नहीं देखा।।

115
मतलबी दोस्तो से मै आजकल दूर रहता हूं
जो नहीं है दिल के सच्चे उनसे दूर रहता हूं
बहुत देखे है मैने जिंदगी मै धोके
अब मै हर धोके से दूर रहता हूं।।

116
एक बार कह देता मुझे
अगर मेरी दोस्ती कबूल ना थी
यूं दगा कर दिया तुने
मुझे तेरी नफरत कुबूल ना थी।।

117
वो सारी ज़ख्म हरे हो जाते है
जब दोस्त पुराने याद आते है।।

118
मैने तो दोस्तो मै दुनिया देखी थी
मुझे कहां कुछ गम था
तू नहीं जाएगा मुझे कभी छोड़कर
ये मेरा सबसे बड़ा भ्रम था।।

119
यारी दोस्ती बहुत निभा ली
अब हम भी समझदार हो गए है
जिनको लगता है बेवकूफ है हम
अब हम उनके बाप हो गए है।।

120
सच्चे दोस्तो का मै कभी हाथ नहीं छोड़ता
धोखेबाजों को जाने से मै कभी नहीं रोकता।।

121
आज जा रहा है कल तेरी कोई जगह ना होगी
मेरे दिल मै कोई हमदर्दी ना होगी
याद रखना ए दोस्त
अब ये दोस्ती कभी दुबारा ना होगी।।

122
अनजाने मै कहा था मैने तू तो बुरा मान गया
मजाक करना आदत है मेरी तू तो बुरा मान गया
अब यूं ना जा छोड़कर
तेरा यार अब तूझसे हार मान गया।।

123
तूने भी कोई कसर नहीं छोड़ी दिल दुखाने में
मुझको हर बार आजमाने मै
दिया ही नहीं कभी साथ तूने मेरा
झूठे वादे थे तेरे दोस्ती के अफसाने मै।।

124
मक्कार लोगो से अब दोस्ती नहीं करता
जिगरी कहकर जो धोका देते है
मै अब उन्हें दिल मै नहीं रखता।।

125
दोस्तों से अच्छे तो दुश्मन थे
कभी छुपकर वार नहीं किया
दोस्त कहकर हमको
कभी पीठ पीछे घात नहीं किया।।

126
दोस्ती को आजमा रहा हूं मै
जो लोग कहते है बुरा हूं मै
उनकी दोस्ती की अच्छाई
आजमा रहा हूं मै।।

127
मै नहीं लिखता अब बड़े बड़े दोस्ती के अफसाने
सबकी यारी देख ली है
जो कहा करते थे आयंगे वक्त पड़ने पर
उनकी गद्दारी देख ली है।।

128
दोस्ती थी कभी तेरी हमसे इसलिए जाने दिया
धोका देकर भी तुझे पनाह पाने दिए
वरना अंजाम हम उनका बुरा करते है
जो लेकर आड दोस्ती की हमसे दगा करते है।।

129
अब तो तुझे दोस्त कहने मै भी शर्म आती है
मुझे तेरी शक्ल से भी घिन आती है
जिसके लिए तूने ठुकरा दी मेरी दोस्ती इस कदर
मुझे अब तेरी दोस्ती पर शर्म आती है।।

130
तुझे क्या कहूं अब मै
जब किस्मत ही खराब है
तेरे जैसा मक्कार दोस्त जब मेरे पास है।।

~ Best friendship shayari~

131
तेरे जैसा गधा दोस्त मुझे मिला है
भगवान ने किस जन्म का बदला मुझ से लिया है
पर तू जिगरी यार है मेरा हमेशा
इसीलिए ही तू पागल पैदा किया है।।

132
तेरी दोस्ती को किस्मत वालों को मिलती है
और हमें अपनी किस्मत पर नाज़ है
लिखवा कर लाए है तेरी दोस्ती अपनी लकीरों में
इसलिए हम आज साथ साथ है।।

133
मेरी हर बात बिना कहे मान जाता है
मुझे कभी नहीं सताता है
मै तुझे बुलाता हूं हर वक्त पागल
पर तू मुझे अपनी जान बुलाता है।।

134
लड़कियों की दोस्ती नहीं चाहिए
मेरे लिए मेरे दोस्त ही काफी है
जान जिगर सब वही है मेरे
वो मेरे सबसे खासी है।।

135
जब कॉल करता हूं आ जाता है
कोई से भी ही मुसीबत मेरा साथ निभाता है
तेरे जैसा दोस्त देकर मुझे
खुदा भी मुझ पर इतराता है।।

136
कभी ना लगे नजर इस दोस्ती को यूंही कायम रहे
तेरा मेरा रिश्ता हर जन्म तक यूं ही कायम रहे।।

137
दोस्त तुझ से कुछ कहना है
जो कभी ना कह पाया
तू ही यार है मेरा सच्चा
तूने हर वक्त मेरा साथ निभाया।।

138
सब कहते है की तुझे दोस्त अच्छा मिला है
मै कहता हूं मुझे दोस्त के रूप में कोहिनूर हीरा मिला है।।

139
ये दोस्ती यूं ही बरकरार रखना
कोई कुछ भी कहे तू मुझे हमेशा अपना यार रखना।।

140
अच्छो के लिए अच्छे
बुरो के लिए बुरे हैं हम
दोस्त रखते हैं हम ऐसे
जैसे वो हो कोई परमाणु बम।।

141
तेरी दोस्ती ही सबसे अनमोल है मेरे लिए
और किसी की कोई जरूरत नहीं
तू रहे पास अगर मेरे
मुझे फिर किसी के सहारे की जरूरत नहीं।।

142
यारा तेरी यारी में मैंने जीना सीखा है
तुझसे ही मेरी हर खुशी मैंने दिलों में रहना सीखा है
तेरा हाथ साथ रहे यूं ही हमेशा
मैंने तेरे बिना न दुनिया में जीना सीखा है।।

143
तेरी दोस्ती का सबब हम जानते है
तेरी दोस्ती की कीमत हम जानते है
तू रहता है साथ मेरे हमेशा
हम तेरी हर हरकत पहचानते है।।

144
दिल मै रखते हो मुझे जान की तरह
संग चलते है मेरे परछाई की तरह
दोस्ती तुम्हारी है ऐसी साथ रहते हों
आसमान की तरह।।

145
कोई किताब अगर लिखी जाएगी
तेरी मेरे दोस्ती सबसे अव्वल आएगी।।

146
तू ही है मेरी दुनिया तू ही आसमान है
मेरा यार मेरे लिए मेरा भाईजान है।।

147
अब क्या लिखूं अपनी दोस्ती के बारे मै
तूने हर फर्ज निभाया है
हमेशा गले से लगाकर
मेरा मान बढ़ाया है।।

148
मेरे लिए जो भी है बस तू ही है
मेरा दोस्त मेरा जिगरी यार मेरी पहचान तू ही है।।

149
हमारे जाने के बाद भी हमारी दोस्ती के अफसाने पढ़े जाएंगे
तेरे मेरे साथ के किस्से सबको सुनाए जाएंगे
हमने दोस्ती निभाई है इस कदर
हम मर जाएं फिर भी इस दोस्ती को अमर बनाएंगे।।

150
तेरी दोस्ती का तोहफा में कुछ दे नहीं सकता
तुझसे मैं कभी कुछ ले नहीं सकता
तूने दिया है प्यार मुझे इतना
मैं अब कोई एहसान कभी ले नहीं सकता।।

Final words

So friends these were the best dosti shayari in Hindi collection, we hope that you like this post.

If you enjoyed this friendship shayari collection then don’t forget to share with your friends on Facebook and WhatsApp.

If you have any good friendship and dosti shayari then please share in the comment section and we will include it it in our post along with your name. Thank you very much for reading this article.

Leave a Comment

Your email address will not be published.