रूठी गर्लफ्रेंड को मनाने के लिए शायरी | नाराज GF को मनाने वाली शायरी

रूठी गर्लफ्रेंड को मनाने वाली शायरी: नमस्कार दोस्तों आज के इस पोस्ट में हम आपके साथ रूठी हुई गर्लफ्रेंड को मनाने की शायरी शेयर करने वाले हैं. दोस्तों प्यार के रिश्ते में कभी-कभी थोड़ी बहुत लड़ाई या कहासुनी हो जाती है जिसकी वजह से हमारी प्रेमिका हमसे नाराज हो जाती है.

ऐसे में हमें भी कहीं ना कहीं खराब लगता है क्योंकि हम उससे बहुत ज्यादा प्यार करते हैं. हम चाहते हैं कि किसी भी तरह हमारी गर्लफ्रेंड हमसे मान जाए. ताकि आप दोनों के बीच फिर से वही प्रेम और प्यार पैदा हो पाए.

दोस्तों रूठी हुई गर्लफ्रेंड को मनाने का सबसे बढ़िया तरीका यह है कि आप उनको बहुत प्यार भरी लव शायरी भेजें इससे उनका दिल बहुत खुश हो जाएगा.

आपकी शायरी पढ़ने के बाद उसके मन से सारी नाराजगी दूर हो जाएगी और वह पहले जैसी आपसे बात करना शुरू कर देगी.

तो फिर दोस्तों चलिए बिना कोई समय बर्बाद करते हुए आज के इस शायरी कलेक्शन को पढ़ते हैं.

रूठी हुई गर्लफ्रेंड को मनाने के लिए शायरी
नाराज गर्लफ्रेंड को मनाने वाली शायरी

girlfriend ko manane ki shayari

तेरी याद में आंखें गीली है यार,
दिल तो क्या रू भी है मेरी बेकरार,
अब तो आ जाओ मेरे बेदर्द सनम,
सुबह होने को है मगर है तेरा इंतजार.


निगाहें मिलाने को जी चाहता है,
तेरे पास आने को जी चाहता है,
काश वही राते लौट आए ए दोस्त,
तेरी बाहों में मदहोश हो जाने को जी चाहता है.


अब तो आजा की रात बाकी है,
थोड़ी बहुत से तारों की बारात बाकी है,
हो सके तो अभी चुपचाप आ जा,
मिलने के दो चार अभी लम्हा बाकी है.


मैं तेरे प्यार में जान निसार करूंगा,
तू ना मिली तो ना खुद से प्यार करूंगा,
हर रस्म निभाऊंगा, जान पर खेल लूंगा,
कयामत आने तक तेरा इंतजार करूंगा.


हर सपने की हद होती है,
हर ज़िद की भी हद होती है,
आपके दीदार के इंतजार में,
हदों की भी हद होती है.


भगवान किसी दुश्मन को भी,
ना देना ऐसी बदकिस्मती,
मिला दे उसको अपने प्यार से जुदा ना करना,
मेरी यही प्रार्थना है बस तुमसे इतनी.


फूलों को भौरों से, बहारों को गुलशन से,
चांद को चांदनी से जिस तरह प्यार रहता है,
कैसे बताऊं तुझे ए मेरे हमदम,
मेरा दिल सिर्फ आप में लगा रहता है.


मेरा प्यार मुझसे इस तरह जुदा होगा,
कभी ऐसा सोचा भी ना था,
1 दिन हंसकर सारी जिंदगी रुलाएगा,
कभी ऐसा सोचा ना था.


दी है उसने प्यार में ऐसी कसम,
ना तड़पने की इजाजत ना शिकवा करने की इजाजत,
तुम ही बताओ फिर सनम मेरे,
रहूं मैं कैसे तेरे बिन सलामत.


दिल के जख्म किसी का यूं दुखाया नहीं करते,
आकर किसी के दिल में यूं जाया नहीं करते,
वादा किया है अगर साथ निभाने का तो पूरा करो,
वादा करके प्यार का यूं बदल जाया नहीं करते.


खुद को जहां में बदनाम कर दिया,
अपना दामन कांटों से चार कर दिया,
अब तो हटा दो रुख से पर्दा जालिम,
तेरे प्यार में खुद को बर्बाद कर दिया.


अश्क आंखों पर छुपाओ नहीं,
मेरी तस्वीर दिल में बसाओ नहीं,
जख्मी दिल है जान मेरी,
इस दिल पर और सितम ढाओ नहीं.


यह तमन्ना है शायर बन जाऊं,
किसी हंसी के पांव की पायल बन जाऊं,
उनके कदम मेरे दिल की आवाज हो,
उसके कदमों को चूम कर साहिल बन जाऊं.


हम दीवाने हैं तुम्हें दीवाना बना देंगे,
तेरे दिल मोहब्बत की शमा जला देंगे,
तू मेरा इंतजार करती रहेगी,
सनम हम तेरे लिए खुद को मिटा देंगे.


तुम खेलो खेल हम खेल देखेंगे,
तुम्हारे लिए हम हर जख्म सह लेंगे,
हर सितम होगा कबूला हमें,
तुम्हारे हर सितम हम हंस कर सह लेंगे.


मैंने तुमको देखा तो शिकायत होगी,
तुमने मुझे देखा तो इनायत होगी,
हो सके तो नजरे चुरा ले मेरे यार,
अगर यह नजरें मिली तो बेइंतहा मोहब्बत होगी.


खत्म ना होगा यह मोहब्बत का सिलसिला,
कत्ल पर कत्ल आशिक होते रहेंगे,
मोहब्बत रोशन है रोशन रहेगी,
इश्क के लिए आशिक शहीद होते रहेंगे.


लिख कर नाम तूने क्यों मिटा दिया,
ए दोस्त क्यों तूने खुद को बेवफा बना लिया,
मुझसे एक बार तो कहा होता,
तेरी बेवफाई से पहले खुद को मिटा दिया होता.


तुम हमसे ऑटोग्राफ चाहती हो,
क्या पाओगे इन दो लिखे हुए लफ्जों में,
हमसे नजरें मिलाओ सनम,
सब कुछ पा जाओगे दिल की गहराई में.


खुश नसीब वह है जो लाखों में पलते हैं,
बदनसीब वह भी नहीं जो खाक में पलते हैं,
खुशनसीब हम भी नहीं ए खुदा,
हम गम चाहते हुए भी तेरा शुक्रिया अदा करते हैं.


रंगे मौसम बदल जाते हैं,
नजरों के तीर बदल जाते हैं,
ए दोस्त अगर खुदा साथ दे तो,
दोस्त तो क्या दुश्मन भी बदल जाते हैं.


खुदा कसम यह आलम है दीवानगी का,
मेरा महबूब मुझे खुदा दिखता है,
बाहों में उनकी जन्नत,
उनकी निगाहों में मुझे खुदा दिखता है.


क्यों खामोश हो क्यों उदासी छाई है,
क्या बात है जो चांद पर बदली छाई है,
तुम तो कहती थी तू मेरा है सनम,
हमारी बात छोड़ो क्या तुम पर आई हो सनम.


वह मेरी है जिसे मैं गैर समझता था,
वह मोहब्बत है जिसे गैर समझता था,
गुस्सा तो था उसका महज एक दिखावा,
वह वफा की देवी है जिसे मैं गैर समझता था.


खुदा का शुक्र है रुख से पर्दा तो हटाया तूने,
मैं गैर था मुझे अपना तो बनाया तूने,
हंस-हंसकर लिए सितम जिस दिल पर तूने,
आज उसी दिल को अपना तो बनाया तूने.


जिसे देखो वही हाथों में गिलास उठाए हैं,
हम खाली बोतल लेकर जीते हैं,
सब बोतल से जाम पीते हैं,
हम तेरे नैनों की मद्रा पीते हैं.

आपकी और दोस्तों

तो दोस्तों यह था रूठी हुई या नाराज गर्लफ्रेंड को मनाने के लिए कुछ बेहतरीन शायरी कलेक्शन. यदि आपकी गर्लफ्रेंड या प्रेमिका आप से नाराज है तब आप उनके साथ यह शायरी को फेसबुक या व्हाट्सएप पर जरूर शेयर करें.

हम आपको पक्का वादा करते हैं कि जैसे ही आपकी गर्लफ्रेंड यह शायरी पड़ेगी उसका मन खुश हो जाएगा और उसकी सभी नाराजगी आपसे दूर हो जाएगी.

आपको हमारा यह शायरी कलेक्शन कैसा लगा इसके बारे में हमारे साथ नीचे कमेंट में अपने विचार रखें. और ऐसे ही अच्छी अच्छी शायरी पढ़ने के लिए हमारे दूसरे पोस्ट को पढ़ें धन्यवाद.

Leave a Comment

Your email address will not be published.