हिंदी शायरी कलेक्शन | Best Hindi Shayari Collection 2022

Hello friends in this post we are sharing the best Hindi Shayari collection where you can best Hindi love Shayari, sad Shayari, romantic and Dosti Shayari, etc. If you like this Shayari collection then please give 1 like and do share with your girlfriend, boyfriend, and family members.

If you will read all these Shayari then we assure you that you will definitely love it and enjoy reading this post.  Also we would request you to please share this Shayari collection on Whatsapp and Facebook.

So friends without wasting any of your precious time let’s start reading these best Hindi Shayari collections.

Best Hindi Shayari Collection

हिंदी शायरी कलेक्शन

Hindi Shayari

1) Love Shayari in hindi

लव शायरी

1
इश्क़ है तुझसे या कुछ और है
ये कैसा चाहतों का दौर है
हर तरफ तेरी ही यादें है
तुझ जैसा ना अब कोई ओर है।।

2
ख्वाहिश मत कीजिए मोहब्बत के साथ
बस बेइंतहा इश्क़ कीजिए
गर नहीं रहना चाहता वो आपके पास
तो उसे अब जाने दीजिए।।

3
प्यार एक अलग अहसास होता है
जीते है हम उसको वो हमारे पास होता है
अलग ही लगती है दुनिया
जब हमसफर का हाथ होता है।।

4
मै ना दिखू तो वो बेचैन हो जाती है
मेरी फिक्र करती है, पर ना कभी जताती है
लड़ती है मुझसे बहुत, पर साथ निभाती है
ना समझु अगर मै कुछ तो वो मुझे प्यार से समझाती है।।

5
तारीफ भी उसकी क्या करू
खुदा ने उसे बड़ी फुर्सत से बनाया है
चलती है जब वो लहराते है बाल उसके हवा मै
जैसे आसमान पर काली घटाओं का साया है।।

6
आजकल वो मुझसे यूं प्यार जताता है
हर छोटी बड़ी बात पर रूठ जाता है
मनाने जाऊं अगर मै उसको
वो मुझे प्यार से गले लगाता है।।

7
सारी शरारतें है ये उसकी करीब आने को
हर वक्त नया बहाना बनाता है
चूम कर मेरे गालों को
मुझे प्यार से अपनी बांहों मै सुलाता है।।

8
थोड़ी से पागल है वो
पर मेरे दिल पर राज करती है
फिदा हूं जिस पर मै इस कदर
आजकल वो मुझसे कम बात करती है।।

9
हजार बार मिले है हम
पर आज भी वही बेकरारी है
दिल मिल गए है कबके हमारे
अब मिलन की बारी है।।

10
आजकल वो बड़ा प्यार जता रहा है
क्या बात है वो बड़ा करीब आ रहा है
कहता है मुझे मेरी “जां” वो
सच्चा इश्क़ है, या पागल बना रहा है।।

11
मैने उसे आज फिर मिलने बुलाया था
वो उसी तरह आई थी, पकड़ा था जब हाथ मैने उसका
वो पहली बार की तरह शरमाई थी।।

12
कभी मेरा सर खाती है
कभी मुझे प्यार जताती है
लड़की वो पागल सी है
पर मुझे जान बुलाती है।।

13
हर पल मुझे सताता है, नए नाम से बुलाता है
कभी शॉपिंग तो कभी फिल्म दिखाता है
मेरा पगलू है वो प्यार सा
मुझे प्यार से अपनी जान बुलाता है।।

14
सुबह उठते ही तेरा ख्याल आता है
तेरी हर अदा पर मुझे प्यार आता है
इतनी मासूम लगती है तुम मुझे
तेरे संग बिताया हर पल याद आता है।।

15
आसान नहीं होता किसी को यूं पाना
उसकी चाहातो मै इस कदर खो जाना
प्यार के रिश्ते बनते है दिल से
कभी ना इनका यू मोल चुकाना।।

Dard bhari shayari in hindi

दर्द भरी शायरी

1
दिल अब किससे शिकवा करे
मेरा हमसफर तो रहा नहीं
अकेला ही रो लेता हूं मै
दर्द मै अब सहारा कोई रहा नहीं।।

2
एकतरफा मोहब्बत थी मेरी
दर्द भी बेशुमार मिला है
प्यार नहीं था उसके दिल मै मेरे लिए
इसलिए मुझे गमों का ऐतबार मिला है।।

3
उसकी मोहब्बत रूह मै इस कदर उतर गई
मै खुद को उसमें देखने लगा था जब
वो मुझे छोड़कर चली गई
गम की रात मेरे लिए बहुत बड़ी थी
पर उसके इंतज़ार मै ही सुबह हो गई।।

4
खेरियत पूछते है सब
कोई मेरा ख्याल नहीं रखता
हंसकर गुजर जाते है अब राहगीर
कोई अब मुझसे बात नही करता।।

5
पहले पागल कहा मुझे
फिर इश्क़ मै पागल ही बना दिया
जब मोहब्बत हो गई उससे
उसने मेरा मजाक बना दिया
छोड़ दिया उसने मुझे पागल कहकर
मेरे प्यारे को झूठा मक्कार बता दिया।।

6
अब मुझे कोई पाना नहीं चाहता
मै भी अब किसी को होना नहीं चाहता
वो ही थी मेरे लिए मेरी मोहब्बत
मै अब किसी से प्यार करना नहीं चाहता।।

7
अकेला खड़ा हूं भीड़ मै आज
कोई साथ नहीं है, गम इतना बढ़ चुका है
किसी का हाथ नहीं है,
मेरी ही गलती की सजा पा रहा हूं मै ए मुर्शीद,
की आज मेरा प्यार मेरे साथ नहीं है।।

8
कितना खत्म है जाएगा
ये गम है क्या आधा हो जाएगा
रोते हुए ही कटी है रात आज भी
मुर्शीद फिर सवेरा हो जाएगा।।

9
मेरा ख्याल भी उसे उस वक्त आता है
जब कोई उसके पास नहीं जाता है
किया है उसने इस्तेमाल मुझे इस कदर
इश्क कहकर उसके यहां धोखा दिया जाता है।।

10
मुझे छोड़कर उसका गेरो से बात करना
यूं अच्छा नहीं लगता, दर्द होता है मुझे
पर क्या करू, उसे मै अब सच्चा नहीं लगता।।

11
कसूर उसका भी नहीं है जो दूरियां बना ली उसने
मैने भी कुछ किया होगा,,,
हा मोहब्बत की थी हद से ज्यादा
तभी ये तोहफा उसने मुझे दिया होगा।।

12
चला गया जो दूर अब,, तो गिलाह क्या करू
मै मेरे ही महबूब से सवाल क्या करु
क्या कहा गम है मुझे,, बहुत झूठ बोलते हो तुम
अब मै अपने आप से दगा क्या करू।।

13
मैने मोहब्बत लिखी थी उसने इस्तेमाल किया
मैने जान माना था उसे,,उसने तन्हा किया
अब दर्द दिया है उसने तो शोर क्या करू
जब की नहीं उसने मोहब्बत तो आहें क्यों भरू।।

14
ये कहकर ठुकरा दी उसने मोहब्बत मेरी
मै किसी ओर से प्यार करती हूं
तुझसे बस मजाक किया था मैने
मै किसी ओर की अमानत हूं।।

15
उसको भी मिलेगा वही सिला जो उसने मुझे दिया था
मेरी उम्मीदों को कत्ल उसने किया था
मै रोया था रातो को इस कदर उसे खबर थी
वो चैन से अपने घर मै सोया होगा।।

Zindagi Shayari

जिंदगी शायरी

1
जिंदगी है तो दर्द भी होगा
तकलीफों का समंदर भी होगा
मत रो तू इस कदर
आज अंधेरा है तो कल सवेरा भी होगा।।

2
जो दिल से चला गया
फिर क्या फर्क पड़ता है वो किधर गया
मेरे लहजे से मालूम नहीं है वो अभी
उससे कहो मै मर कर भी एक बार फिर से जी गया।।

3
यहां जीने मै आसानी नहीं है
हर एक की आंखो मै वो रवानी नहीं है
ढल गया है सबकी जिंदगी का सूरज
कौन कहता है आंखो मै पानी नहीं है।।

4
अब ये इल्तज़ा हम पर ही भारी है
ये अब ज़िम्मेदारी हमारी है
जो कहते है थे भूल जाएंगे तुम्हे
अब उन्हें भुलाने की बारी हमारी है।।

5
मेरे सर पर ये इलज़ाम आता है
मुझे हर बार कुरेदा जाता है
पत्थर हूं मै ये कहकर
मुझे हर बार ठोकर मारा जाता है।।

6
जिंदगी अब मौत से भारी है
हमारी अब सब पर ज़िम्मेदारी है
घर से दूर जाकर कमाना भी है
अब ये जंग हमी पर ही भारी है।।

7
हर तरफ वो मंजर नहीं होता
हर रेगिस्तान बंजर नहीं होता
कुछ जगह खिलते है फूल प्यार के भी
हर कोई खाली समंदर नहीं होता।।

8
इन परेशानियों से भागकर कहां जाओगे
जहां जाओगे इन्हीं को पाओगे
मुश्किल है आज तो कल सुकून भी होगा
जब तुम मेहनत से अपना मुकाम बनाओगे।।

9
जो कल था वो आज नहीं होगा
हर वक्त नया सवेरा नहीं होगा
अगर आज ना जागा तू
तो कल ये नया बसेरा नहीं होगा।।

10
मुझे जीन मै आसानी नहीं लगती
लोगो को मुझसे पेरशानी नहीं लगती
सब समझते है खुश हूं मै बहुत
उन्हे नहीं पता मेरे हिस्से मै दुआ नहीं लगती।।

11
गिरते हुए पत्तो से सीखा है जिंदगी का हुनर
पतझड़ की तरह टूट जाना है
जब बन जाओ बोझ किसी ओर पर
तो शाखो से टूट जाना है।।

Motivation shayari in hindi

मोटिवेशन शायरी

1
यूं ही नहीं मिला करती सफलता
हौसलों से उड़ना पड़ता है
छोड़ कर कश्ती अपनी
तूफ़ानों से लड़ना पड़ता है।।

2
कोशिश कर तेरे हाथो मै भी मुकद्दर आएगा
जो नहीं हुआ आ तक वो दौर आएगा।।

3
अपने सपनो को जी ले यही वक्त है
उठकर आगे बढ़ ले यही वक्त है
जो रह गया पीछे तो फिर पछताएगा
ये लम्हा लौटकर फिर कभी ना आएगा।।

4
बहाने ना बना अपनी मजबूरी के
सबके हाथो मै लकीर नहीं होती
लिखा है जो मुकद्दर में वह जरूर होगा
मेहनत करेगा अगर तो हर ओर तेरा नाम जरुर होगा।।

5
चल पड़ा है जिस रास्ते पर रुकना मत
मुश्किल बहुत आएगी पर तू झुकना मत
बढ़ते रहना रहा पर आगे हमेशा
अपनी मंजिल को तू कभी छोड़ना मत।।

6
किरणों की तरह चमकना सीखो
सूरज की तरह चलना सीखो
आए कितनी भी मुश्किल जिंदगी मै
तुम हर कठिन डगर पर चलना सीखो।।

7
अभी तो सपना देखा है पूरा करना बाकी है
मंजिल पर चढ़कर जश्न मनाना बाकी है
रुकूंगा नहीं जब तक पूरा ना हो जाए
अभी तो उम्मीद का पूरा होना बाकी है।।

8
जो तूने सोचा है तुझे ही करना होगा
कोई नहीं आएगा साथ तुझे ही आगे बढ़ना होगा
सोच रख अपनी ऊंची हमेशा
तभी तुझे हौसलों की उड़ान भरना होगा।।

9
बाहर मत तलाश खुद को
अपने अंदर ही झांक ले
आग जुनून की जलाकर दिल मै
तूफ़ानों से कश्ती बांध ले।।

10
लोग कहते है कि मत कर नहीं कर पायेगा
कब तक सुनेगा तू उनकी, ऐसे ही रह जाएगा
जब सफलता कदम चूमेगी तेरे
इन लोगो का गिरोह ही तेरा शोर मचाएगा।।

 Mulakatein badh rahi hai

1

मुलाकातें बढ़ रही है इस कदर हमारी
बेचैन दिल को अब करार आ रहा है
देखा है मैने तुझे जब से सामने
मुझे हर वक्त तुझपर प्यार आ रहा है।।

2
ये सिलसिला यूं ही चलता रहे
कभी खत्म ना हो जाए
बढ़ती रहे तेरे मेरे दर्मिया ये मोहब्बत
इश्क़ फिर से हमारा जवां ही जाए।।

3
अक्सर एक मुलाकात ही जिंदगी बदल देती है
हमे गमो के अंधेरे में धकेल देती है
मिलते है हम जिस शख्स से मोहब्बत बनकर
वो ही हमे दुनिया मै अकेले छोड़ देती है।।

4
हिज़्र की रातें कट भी जाए तो क्या होगा
वो ना मिलकर मुझे मिल भी भी जाए तो क्या होगा
नहीं हूं अब मै उसके इंताजर मै
गर वो मेरे सामने से गुजर जाए तो भी क्या होगा।।

5
वफ़ा, बेईमानी, इरादे सब कुछ दिखा दिए थे
एक मुलाकात मै उसने सारे रंग दिखा दिए थे।।

6
रखा था उसने भी मुझे अपने दिल की चौखट पर
पर उसने ठोकर मार दी, मै ना देख सका था
उसके शातिर चहेरे को,,
उसने मेरी आंखो पर हुस्न की पट्टी बांध दी।।

7
चल रही थी हमारी मुलाकातें
इश्क़ भी बढ़ रहा था
दोनों खोए हुए थे एक दूसरे मै
प्यार हमारा परवान चढ़ रहा था।।

8
कहा था मैने उसे की इस कदर मुझे ना चाहे
ये दौर- ए सिलसिला मुलाकात का यही थम जाएं
जाऊंगा दूर तो गम होगा तुझे
ये मोहब्बत अब बस यही रुक जाएं।।

9
नजदीकियां बढ़ गई मुझे कुछ पता ना चला
मुलाकातें प्यार मै कब बदल गई पता ना चला
रहता था मै इस धोके मै वो याद रखेगी मुझे
कब छोड़कर चली गई पता ना चला।।

10
बहुत मिल जाएंगे हम जैसे बेशक तुम्हे
पर वो दिल नहीं मिल पाएगा
क्या कहती है प्यार हो जाएगा उसे?
पर हमारे जैसा प्यार नहीं मिल पाएगा।।

Alone shayari

अकेलापन शायरी

1
अकेले ही कट रहा है सफर कोई साथ नहीं है
मंजिल है पास मगर वो बात नहीं है
इस शहर की हवाओं ने अपना रुख बदला है
जो सनम मेरे साथ था उसका अब साथ नहीं है।।

2
अकेले ही जीना है मुझे
गम भी सहना होगा
प्यार किया है अगर मैने
तो अश्कों का दर्द भी सहना होगा।।

3
दर्द भरी शाम है ये, हाथ मै जाम है ये
बिना मौसम बरसात है यारों
आंसुओ की रात है है यारों
कहो मेरे महबूब से वापस आ जाए
ये मेरे गम की इंतहा है यारों।।

4
रात का समय है, मै बालकनी मै खड़ा तुम्हे सोच रहा हूं
अकेला हूं रात मै इस कदर खुद से लिपटकर रो रहा हूं
देख रहा हूं इस शहर की जलती हुई रोशनी को
अपने अन्दर के जख्मों को खुद ही सिल रहा हूं।।

5
सोचा ना था मैने एक दिन ऐसा भी आएगा
पीना पड़ेगा इतना मंजर ऐसा भी आएगा
जिंदगी ने आजमाया बहुत है मुझे
पता नहीं था ये हुनर भी मुझे आएगा।।

6
अब ये अकेलापन मुझे अच्छा लगता है
मैने जीना सीख लिया है
तुम नहीं आ सकती वापस,, जानता हूं मै
मैने तुम्हारे बिना अब रहना सीख लिया है।।

7
ये जान है मेरी जो निकलती नहीं है
बाकी मै कब का मर चुका हूं
जिंदा हूं थोड़ा सा मै मगर
अब जिंदा लाश बन चुका है।।

8
बेपरवाही का ऐसा दौर आएगा
रोना पड़ेगा छुपकर मुझे,
अकेलापन इस कदर खाएगा
कैसे रहूंगा मै अब इस गम के सहारे
मुझे अब जिंदा कौन बचायेगा।।

9
सब्र ओर कितना करू, सब तो कर लिया
अब मुझसे रहा नहीं जाता
कितना सहू अकेलेपन का दर्द मै
अब मुझसे सहा नहीं जाता।।

10
मुझे क्या मिला मुर्शीद, मै कल भी अकेला था आज भी हूं
मंजर नहीं बदला अब भी, मै इन्सान आज भी हूं
कौन कहता है बुरा था मै,,अच्छा आज भी हूं
दिल टूट चुका है मेरा मै अकेला आज भी हूं।।

11
अकेलेपन का दर्द क्या जानो तुम
अंदर ही अंदर मारना पड़ता है
दिल जलता है अंदर से
लेकिन बाहर हंसना पड़ता है।।

12
गमों का पहाड़ टूट पड़ेगा सोचा ना था
इस कदर मर जाऊंगा सोचा ना था
जिंदगी दे रही मुझे दगा मेरे यारो
अकेला पड़ जाऊंगा सोचा ना था।।

13
दर्द मै भी मुस्कुरा देता हूं मै
अब रोया नहीं करता हूं मै
कोई पूछता है खेरीयत मेरी गर
हंसकर, ठीक हूं बता दिया करता हूं मै।।

14
क्या कहा तुम साथ निभाओगे
अच्छा मजाक कर लेते है
टूटा हुए कांच हूं मै चुभ जाऊंगा
फिर क्यों मुझसे इस कदर बात कर लेते हो।।

15
एक रोज मै खुद का मातम मनाऊंगा
जब हर जगह से ठुकरा दिया जाऊंगा
सब देखकर हसंगे मुझपर
मै एक रोज जला दिया जाऊंगा।।

16
कौन कहता है अकेलापन दर्द देता है
मुझसे आकर मिलो ये सुकून देता है
ओर महखाने मै आज महफ़िल लगी है
वहां जाकर देखा वो भी दर्द का मजा देता है।।

17
सितम लाख ढाए उसने मेरे उपर
मै चुपचाप सब सह गया
दिल तो पत्थर का था मेरा
मैने कब कहा वो रो गया।।

18
आएंगे लोग मेरे जाने के बाद मिलने
पर मै मिल नहीं पाऊंगा
कहंगे सब अच्छा था मै
पर मुर्शीद मै उन्हे सुन नहीं पाऊंगा

19
कौन कहता है दिन ओर रात होती है
हमसे आकर मिलो जहा रात दिन गम की बरसात होती है।।

20
अब ये महफ़िल मेरे किस काम की
यहां मेरा कोई ना रहा
मुस्कुराता था मै जिसके लिए यारों
अब मेरा वो सनम यहां ना रहा।।

Hindi bewafa shayari

बेवफा शायरी

1
दिल तोड़ गई वो मेरा किसी ओर के लिए
अब उसकी बाहों में सोती है
जो कहा करती थी मर जाऊंगी तुम्हारे बिना
अब वो उससे मोहब्बत किया करती है।।

2
जो वादे मुझसे किए थे उसने
वो अब किसी ओर से निभा रही है
मै करता रहा इंतज़ार उसका
वो किसी ओर को प्यार जाता रही है।।

3
मेरे सामने वो गेरो की तारीफ करती है
उनसे इस कदर हंसकर बात करती है
कसूर क्या था मेरा ए जां
जो तू मुझपर ये सितम बार बार करती है।।

4
झूठा किया था प्यार उसने
मुझे धोका दिया था उसने
बोलकर हमनवा मुझे
किसी ओर के संग सौदा किया था उसने।।

5
आज उसे किसी ओर की बाहों मै देखा
अब क्या देखना बाकी रह गया
क्या कहा तुम्हे सच्चा है वो
अब ये कहानी सुनना ही बाकी रह गया।।

6
जब निभा नहीं सकते थे, तो वादे क्यों किए
तुमने मुझसे इतने बहाने क्यों किए
देकर प्यार का वास्ता मुझे
तुमने खुशी की झूठे तराने क्यों दिए।।

7
अब बता नहीं सकता, जो गम था छुपा नहीं सकता
देख ली अब तेरी रुसवाई मैने
जा बेवफा अब तुझे मै गले लगा नहीं सकता।।

8
इस कदर मोहब्बत थी तुमसे
मैने इतना तुम्हे चाहा था
फिर क्यों किए तुमने ऐसा
जब मैने तुम्हे अपना रब माना था।।

9
तेरे सब वादे झूठे थे इरादे झूठे थे
मैने तो माना था तुझे सनम अपना
पर वो लिखे गए प्यार के अफसाने अधूरे थे।।

10
ठुकरा के मेरा प्यार अब वो गेर की बांहों मै सोती है
देकर मुझे धोका अब वो किसी और को सहारा देती है
जो वादे किए थे मुझसे अब वो वहां निभा रही है
कहकर मुझे जान अपनी, इस कदर इश्क़ फरमा रही है ।।

11
तेरे बिना जी नहीं सकता था मै
पर अब मर भी नहीं सकता
वहीं बाते यादे आती है मुझे
पर तुझे बेवफा कह भी नहीं सकता।।

12
तुमसे क्या उम्मीद करना
जब तुम अपने नहीं थे
हर किसी ने धोका दिया है मुझे
जिंदगी के तजुर्बे कम थे।।

13
क्या लिखे हम क्या कहें
कुछ समझ नहीं आता
बेवफा आता है तुम्हारा नाम जहन मै
पर वो हमे अब लेना नहीं आता।।

14
झूठे वादे से अच्छा तो मुझे मौत दे देती
मै यू रोज रोज ना मर रहा होता
नहीं करती थी प्यार मुझसे तो बता देती
आज मै आहें ना भर रहा होता।।

15
कसूर तेरा भी नहीं था बेवफा
मैने ही हद से ज्यादा यकीन किया था
दिल देकर तुझे अपना
मैने ही जख्मों मै अपना हाथ दिया था।।

16
मै क्या कहूं अब उसके बारे मै
उसके अलग ही रंग देखने को मिले है
कहती थी बहुत सीधी हूं मै
पर उसने अलग ही ढंग देखने को मिले है

17
किस्मत को दोष ना दू तो क्या करू
वो मुझे आजमाती बहुत है
जिस पर यकीन करता हूं सबसे ज्यादा
वो ही अक्सर मुझे धोका देती बहुत है।।

18
अब से जब भी मोहब्बत को लिखूंगा
मै बेवफा सनम ही लिखूंगा।।

19
रेत की तरह उड़ गया मेरे दिल का घरौंदा भी
अब वहां कोई नहीं रहता
टूट गया उसके जाने से दिल इस कदर
अब वहां किसी का सहारा नहीं रहता।।

20
बहुत कर लिए सितम अब मै ओर नहीं सहूंगा
तेरी बेवफाई क अब ओर नहीं सहूंगा
धोखेबाज है तू मै तुझे अब बेवफा ही कहूंगा।।

Hindi Maut Shayari

1
मौत का क्या पता एक दिन आ ही जाएगी
आज मेरी तो कल तेरी बारी आएगी।।

2
जिंदगी से परेशान बहुत है
यहां इन्सान बहुत है
जी तो रहे है सब दुनिया मै मगर
जिंदगी से मौत से पहचान बहुत है।।

3
डरता है इस कदर वो मौत से
हर रोज दुआ करता है
दर्द तो जिंदगी दे रही है
वो मौत से दगा करता है।।

4
इतना घमंड ना कर अपने ऊपर
ये ही दुनिया की कहानी है
जलना सबको है एक दिन
यही मौत की कहानी है।।

5
मै नहीं डरता मौत से
हंसते हंसते मर जाऊंगा
आएगी जब मेरे पास वो
उसे प्यार से गले लगाऊंगा।।

6
जिस दिन ना आए चैन वो रात बड़ी लम्बी होती है
जिंदगी है तो दर्द की बेइंतहा होती है
मौत भी नहीं आती मुझे अब
मेरी किस्मत भी हर वक्त रोती है।।

7
हमसे अब मातम नहीं मनाया जाता
अब मौत आ जाए तो अच्छा होगा
हर पल काट रही है जिंदगी इस क़दर
अब जल जाऊं तो ही अच्छा होगा।।

8
सपनो से सौदा कर उम्मीदों पर पानी फिर गया
किनारा ना रहा कश्ती पर पानी फिर गया
डूब गया हूं जिंदगी के भंवर मै अब
मुझे मौत का अब डर नहीं रहा।।

9
एक दिन शाम का वक्त होगा
मै कही नदी किनारे बैठकर
अपनी बर्बादी का जश्न मनाऊंगा
जब बढ़ जाएगा गम हद से ज्यादा
मैं फ़िर मौत को गले लगाऊंगा।।

10
एक रोज हादसा होगा मै गुजर जाऊंगा
कौन जाने मै कहां जाऊंगा
पता पूछते रहंगे सब मेरा
मै मौत से रिश्तेदारी निभाऊंगा।।

11
यूं ही रातें कट गई अब मै कहा जिंदा बचा हूं
मौत ही आ जाए तो बेहतर मै जिंदा लाश बचा हूं।।

12
अभी कैसे मर जाऊंगा
सपने अधूरे है मेरे
मौत खड़ी रहेगी इंतज़ार मै
अभी होंसले जिंदा है मेरे।।

13
चलते चलते थक गया हूं
अब आराम करना है
सोना चाहता हू गहरी नींद अब
मुझे ना कभी वापस उठना है।।

14
सफर दुनिया भर का कर लिया
पर सुकून नहीं मिला
पूछा जब मैने मौत का पता
मुझे उसका घर नहीं मिला।।

15
दुनिया मै आना ओर जाना
ये रिवाज है बहुत पुराना
जिन्दगी देती है दर्द सबको
इसलिए मौत को है गले लगाना।।

16
मै मौत को भी मात दे जाऊंगा
सबको सबक दे जाऊंगा
उम्मीदों पर हूं मै जिंदा
मौत से ना घबराऊंगा।।

17
मुझे मेरे अपनों ने ही दफ़न कर दिया
मेरी कब्र पर रोने तक ना आए
मै देखता था जिनमें जिंदगी अपनी
वो मुझे कंधो पर बिठाकर लाएं।।

18
हर ओर नफ़रत है कोई कब तक सह लेगा
इस नफ़रत भरी दुनियां मै कब तक रह लेगा
मौत तो आएगी एक दिन सबको
कोई कब तक यह जिंदा रह लेगा।।

19
जिसके लिए जी रहा था
अब वो ही ना रही
जी कर क्या करूंगा,
मेरा सनम कहता है मर जाऊं मै
जिंदा रहकर क्या करूंगा।।

20
आखिरी वक्त आ गया है मेरा
आज बहुत खुश हूं मै
जहां आना था एक दिन मुझे
वहां पहुंचकर खुश हूं मै।।

Hindi miss you shayari

1
तेरा ही इंतज़ार रहता है हर वक्त
तू आती क्यों नहीं है
एक तेरी याद है
जो मेरे जहन से जाती नहीं है।।
I miss you~

2
तेरा इंतजार मरते दम तक करूंगा
तेरे लिए ही जिंदा रहूंगा
मुझे यकीन है आएगी तू एक दिन
मैं हर रोज तेरे लिए दुआ करूंगा।।
I miss you~

3
अब तो ये राते अच्छी नहीं लगती
तुम गई है जब से ये शामे अच्छी नहीं लगती
तुझे बहुत याद करता है मै मेरी जां
अब तेरी ये बेरुखी मुझे अच्छी नहीं लगती।।
I miss you~

4
अब तक तो सलामत था अब क्या होगा
तेरे जाने के बाद मेरा हाल क्या होगा
यादे तेरी जीना मुश्किल कर रही है मेरा
इससे बुरा मेरा हाल क्या होगा।।
I miss you~

5
जब से तुम गई हो
मेरा कोई ठिकाना ना रहा
किनारे को किसी कश्ती का सहारा ना रहा।।
I miss you~

6
इंतज़ार, इबादत, इज़हार सब तो किया है मैने
अब तो आज जाओ ऐसा भी क्या किया है मैने
करता हूं तुम्हे बहुत याद मै
तेरे लिए रोजा रखा है मैने।।
I miss you~

7
सुबह शाम, तेरा ही इंतज़ार
तेरी ही याद रहती है
भूख भी नहीं लगती मुझे अब
तेरी ही ख़यालो कि दुनिया रहती है।।
I miss you~

8
जहां जहां तन्हाई मिलेगी
मै तुम्हे याद आऊंगा
हर वक्त तुम्हे परछाई बनकर सताऊंगा।।
I miss you~

9
अब क्या लिखे हम ओर क्या करे
तेरा नाम ले ये खुदा से फरियाद करे
ग़म ही लिखा है अब जिंदगी में मेरे
हम इससे अब कैसे निजात करे
I miss you~

10
गलत सोचा था तुमने मै तुम्हे भूल जाऊंगा
दूर जाकर तुमसे रूठ जाऊंगा
अब तो प्यार ओर बढ़ गया है तुझसे
मै लौटकर वापस जरुर आऊंगा।।
I miss you~

11
अकेला भटकता हुआ रात को मकान में
सोता हुआ कमरे मै,…
अपने तकिए को आंसुओ से भिगोता हुआ
तेरी तस्वीर फोन मै देखकर उसे चूमता हुआ
तेरी ही याद आती है हर वक्त मुझे
मै रात को इस कदर टूटकर रोता हुआ।।
I miss you~

12
जब से गई हो तुम
मेरी जिंदगी मै तो अंधेरा हो गया
सवेरा नहीं था कभी
अब तो काली रात का साया हो गया।।
I miss you~

13
कहीं तुम आओ तब तक देर ना हो जाएं
हम ना मिले तुम्हे, कहीं रब को प्यारे ना हो जाएं।।
I miss you~

14
तेरी याद मुझे इस कदर तड़पाती है
सोते हुए को नींद से उठाती है।।
I miss you~

15
ए मेरी जां अब तेरे बिना जिया नहीं जाता
लौट आओ वापस ये ग़म का घुट अब पिया नहीं जाता।।
I miss you~

16
कितना अच्छा हो जो तू वापस आ जाएं
आकार मेरी बांहों में समा जाएं
देख लूं तुझे जी भरकर मै
मेरी यादों को नया सवेरा मिल जाएं।।
I miss you~

17
कभी हमारी याद आए तो चले आना
हम वही मिल जाएंगे, जहां छोड़ा था तुमने।।
I miss you~

18
तुमने तो कहा था तुम भूल जाओगी मुझे
फिर इतना याद क्यों करती हो
क्या तुम भी मुझसे मिलने के लिए इतना ही तड़पती हो।।
I miss you~

19
इस अनजान शहर मै आ तो गई हूं
पर कोई अपना नहीं लगता
याद आती है हर वक्त तेरी
ये समंदर को किनारा अच्छा नहीं लगता।।
I miss you~

20
इस दुनिया कि भीड़ में खो चुका हूं मै
पर अब भी तेरा चेहरा याद है मुझे
इन्हीं के सहारे जी रहा हूं मै
तेरी वो सजा याद है मुझे।।
I miss you~

Hindi shayari, ye raajniti hai

1
ये राजनीति है, हमे समझ नहीं आएगी
ना जाने कौन सी सरकार कहां जाएगी
कोई नहीं है है सगा हमारा…
कल फिर दूसरी सरकार आएगी।।

2
धर्म के नाम पर लोगो को बांट रहा है
ये आजकल का नेता सबको काट रहा है
बने फिरते है जो रक्षक हमारे
वो खुद हमे रिश्वत बांट रहा है।।

3
सबकी कदर करो ये लोग हमारे है
जो बैठे हो तुम कुर्सी पर वो हमारी है
मत करो गुरूर इतना, इस कदर उसपर
ये जनता की ताकत हमारी है।।

4
दौर वो मत रखो, बात वो मत रखो
जुबां पर आए जो, हिसाब मत रखो
देते है तुम हमे नसीहत इमान की
तुम इस राजनीति को हिन्दू – मुसलमान मत रखो।।

5
दुकानें चल रही है उनकी हमसे ही
तुम यूं ना बहक जाया करो
वो लड़ाते है तुमको
तुम यूं ना एक दूसरे का खून बहाया करो।।

6
मौकापरस्त होते है वो लोग,
जो धर्म को जहर घोलते हैं
बोलकर राजनीति की जय
नफ़रत का धंधा खोलते है।।

7
कभी तो सेलाब दिखाई देगा
आंखों मै पानी दिखाई देगा
जो ना सुनी गई आवाज जनता की
फिर से मैदानों में लहू दिखाई देगा।।

8
मोहब्बत से जोड़ो दिलो को
गन्दा खेल ना खेलो
राजनीती करने वालों
जनता के दिलो से ना खेलो।।

9
सृजन का बीज है हम सब
यूं जाया नहीं हो सकते
रोक तो सकते हो तुम हमे
पर हम बर्बाद नहीं हो सकते।।

Final Words

So friends these were the best hindi shayari collection, if you liked these shayari then please share with your boyfriend, girlfriend and family members. Also if you have any shayari then please share in the comment section and we will include your shayari in our post along with your names.

Please give 1 like to this post and share with your gf and bf on Facebook and Whatsapp and they will really appreciate it. Also share your thoughts in the comment section and we will give a reply to all your comments, So friends thank you for reading this Shayari collection in Hindi.

Share this...

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.