Sad Status in Hindi For Boys & Girls 2020 | वैरी सैड स्टेटस | गर्लफ्रेंड, बॉयफ्रेंड के लिए सैड स्टेटस

Sad Status in Hindi – Hello friends in this post we are going to share the best and very sad status in hindi for whatsapp and facebook. Sometimes in life you feel very sad and depressed also in love relationship we feel the same way.

So these sad status collection are best to share on whatsapp and facebook with your friends, boyfriend and girlfriend so that they can understand your feelings and emotions.

We were asked by one of our users to please do a post on this. So today we are sharing the very best and heart touching sad status with you. So let’s start reading.

Very Sad Status in Hindi For Boys & Girls 2020

वैरी सैड स्टेटस | गर्लफ्रेंड, बॉयफ्रेंड के लिए सैड स्टेटस

sad status in hindi

आँसू आ जाते हैं आँखों में पर लबों पर हंसी लानी पड़ती है ये मोहब्बत भी क्या चीज़ है यारो जिस से करते हैं उसी से छुपानी पड़ती है.


भूल जाने का मशवरा और जिँदगी बनाने की सलाह,ये कुछ तोहफे मिले थे, उनसे आखिरी मुलाकात मे.


उसने कहा भूल जाओ मुझे , हमने कह दिया , कौन हो तुम?


जानते हो महोब्बत किसे कहते हैं ? किसी को सोचना, फिर मुस्कुराना और फिर आसू बहाते हुए सो जाना.


बिछड़ने वाले तेरे लिए, एक “मशवरा” है..कभी हमारा “ख्याल” आए, तो अपना ‘ख्याल’ रखना.


चलते रहेंगे क़ाफ़िले मेरे बग़ैर भी यहाँ.एक तारा टूट जाने से, फ़लक़ सूना नहीं होता.


वो बड़े ताज्जुब से पूछ बैठा मेरे गम की वजह..फिर हल्का सा मुस्कराया, और कहा, मोहब्बत की थी ना?


याद आयेगी हमारी तो बीते कल की किताब पलट लेना यूँ ही किसी पन्ने पर मुस्कुराते हुए हम मिल जायेंगे.


तेरा नाम था आज किसी अजनबी की जुबान पे… बात तो जरा सी थी पर दिल ने बुरा मान लिया.


मेरी यादों की कश्ती उस समुन्दर में तैरती है, जहाँ पानी सिर्फ और सिर्फ मेरी पलकों का होता है.


काश तेरी याद़ों का खज़ाना बेच पाते हम.. हमारी भी गिनती आज अमीरों में होती.


रंग तेरी यादो का ना उतरा अब तक.. लाख बार खुद को आँसुओ से धोया हमने.


वो ना ही मिलते तो अच्छा था… बेकार में मोहब्बत से नफ़रत हो गई.


बेशक खूबसूरत तो वो आज भी है,लेकिन चेहरे पर वो मुस्कान नहीं,जो हम लाया करते थे.


मुझें छोड़कर वो खुश हैं, तो शिकायत कैसी.. अब मैं उन्हें खुश भी न देखूं तो मोहब्बत कैसी.


ये तेरा वहम है के हम तुम्हे भूल जायेगे..वो शहर तेरा होगा, जहाँ बेवफा लोग बसा करते है.


कभी फुर्सत मिले तो सोचना जरूर, एक लापरवाह लड़का क्यों तेरी परवाह करता था.


अब शिकायतेँ तुम से नहीँ खुद से है.. माना के सारे झूठ तेरे थे.. लेकिन उन पर यकिन तो मेरा था.


जाता हुआ मौसम लौटकर आया है..काश वो भी कोशिश करके देखे.


तुम्हारे हुसन कि तारीफ़ करने वाले और भी है लकिन हम तारीफ़ नहीं तुम्से प्यार करते थे बस तुम ही समझ न पाई.


उसकी एक प्यार भरी मुस्कान देकने के लिए..जब जब उसके शहर क्या चला जाता हूँ…कसम से में महीनो तक सो नही पता हूँ.


वो अक्सर मुझसे पूछा करती थी, तुम मुझे कभी छोड़ कर तो नहीं जाओगे, काश मैंने भी पूछ लिया होता.


अब तो शायद ही कोई मुझसे प्यार करे … मेरी आँखों में साफ़ नज़र आने लगी हो तुम.


वो अपनी तन्हाई की खातिर फिर आ मिला मुझसे, हम नादान ये समझे हमारी दुआओं में असर है.


बेशक तू बदल ले अपने आपको लेकिन ये याद रखना.. तेरे हर झूठ को सच मेरे सिवा कोई नही समझ सकता.


हर यार – यार नहीं होता.. हर यार वफादार नहीं होता.. दिल आने कि बात है.. नही तो सात फेरो के बाद भी प्यार नही होता.


उनकी चाहत में हम कुछ यूँ बंधे हैं कि वो साथ भी नहीं और हम अकेले भी नहीं.


कुछ तो है जो बदल गया ज़िन्दगी में मेरी अब आईना में चेहरा मेरा हँसता हुआ नज़र नहीं आता.


गलती इतनी हुई की जान से ज्यादा तुझे चाहने लगे हम । क्या पता था की मेरी इतनी परवाह तुझे लापरवाह कर देगी.


दर्द काफी है बेखुदी के लिए, मौत काफी है ज़िन्दगी के लिए, कौन मरता है किसी के लिए, हम तो ज़िंदा है आपके लिए.


दर्द सहने की अब कुछ यूँ आदत सी हो गयी है कि अब दर्द न मिले तो दर्द सा होता है.


तुम ही वजह मेरे खालीपन की.. और.. तुम्ही गूंजते हो मुझमें हरदम.


हर शाम को ढलता सूरज याद दिलाता है… आज और एक दिन हो गया उसे बेवफा हुए.


कोई भी दीवारें मुझे तुमसे मिलने से ना रोक पाती,अगर तू मेरे साथ होती तो.


बारिश और मोहब्बत दोनों ही यादगार होती है फर्क बस इतना है कि एक मे जिस्म भीग जाता है और दूसरी मे आखें.


बहुत खूबसूरत है ना वहम ये मेरा … कि तुम जहाँ भी हो सिर्फ मेरे हो.


इश्क ना होने के सिर्फ दो ही तरीके थे,या दिल ना होता या तुम ना होते.


चलो अब जाने भी दो,क्या करोगे दास्तां सुनकर… खामोशी तुम समझोगी नहीं,और बयां हमसे होगी नहीं.


कर लेता हूँ बर्दाश्त हर दर्द इसी आस के साथ, की खुदा नूर भी बरसाता है, आज़माइशों के बाद.


दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझ से मिलने के न दिल ठहरता है न इंतज़ार रुकता है.


वो कागज आज भी फुलों की तरहा महकता है जिस मे उसने मजाक मे लिखा था मुजे तुमसे मोहब्बत है.


मोहब्बत छोड कर हर एक जुर्म कर लेना, वरना तुम भी हमारी तरह मुसाफिर बन जाओगे तनहा रातो के.


खुश तो वो रहते हैं जो ” जिस्मों ” से मोहब्बत करते है, क्यूंकि, ” रूह ” से मोहब्बत करने वालों को अक्सर ” तड़पते ” ही देखा है.


इन्सान ज़िन्दगी में सिर्फ एक बार ही मोहब्बत करता है …. बाकी की मोहबत्तें वो पहली मोहब्बत भुलाने के लिए करता है.


तेरी आरज़ू मेरा ख्वाब है, जिसका रास्ता बहुत खराब है, मेरे ज़ख्म का अंदाज़ा ना लगा, दिल का हर पन्ना दर्द की किताब है.


निकाल दिया उसने हमें अपनी ज़िन्दगी से भीगे कागज़ की तरह ना लिखने के काबिल छोड़ा ना जलने के.


दिल‬ के अरमान को दिल मे सुला ना देना,अपनी खूबसूरत आँखो‬ को रुला ना देना, कल‬ किसने देखा है आख़िर, ‎हम‬ ना रहे तो हमे भुला ना ‪देना‬.


रूठेंगे तुमसे तो इस कदर की,तुम्हारी आँखे मेरी एक झलक को तरसेंगी.


होठों की हँसी को ना समझ हक़ीक़त-ए-जिंदगी,दिल में उतर के देख हम कितने उदास है.


होठों की हँसी को ना समझ हक़ीक़त-ए-जिंदगी,दिल में उतर के देख हम कितने उदास है.


अजीब पैमाना है यहाँ शायरी की परख का जिसका जितना दर्द बुरा, शायरी उतनी ही अच्छी.


सुना था मोहब्बत मिलती है मोहब्बत के बदले,हमारी बारी आई तो, रिवाज ही बदल गया.


अब भी ताज़ा हैं जख्म सिने में … बिन तेरे क्या रखा हैं जीने में… हम तो जिन्दा हैं तेरा साथ पाने को …. वर्ना देर नहीं लगती हैं जहर पीने में.


काश की उसको हम बचपन मे ही मांग लेते,क्योंकि बचपन में हर चीज मिल जाती थी तब दो आँसू बहाने से.


ना उजाड़ ए ख़ुदा किसी के आशियाने को….बहुत वक़्त लगता है एक छोटा सा घर बनाने को.


है परेशानियाँ यूँ तो, बहुत सी ज़िंदगी में, तेरी मोहब्बत सा मगर, कोई तंग नहीं करता.


वो रोया तो बहुत होगा खाली कागज़ देख कर.. ज़िन्दगी कैसी बीत रही है.. उसने पूछा था ख़त में.


काश ये इश्क भी चुनावों की तरह होता, हारने के बाद विपक्ष में बैठकर कम से कम दिल खोलकर बहस तो कर लेते.


मैं ज़हर तो पी लूँ शौक से तेरी खातिर ….पर शर्त ये है कि तुम सामने बैठ कर साँसों को टुटता देखो.


मेरी नींद भी मेरी दुश्मन हो गयी, ख्वाबो में भी मुझे तुमसे मिलने नही देती.


तुम्हारे बाद मेरा कौन बनेगा हमदर्द.. मैंने अपने भी खो दिए.. तुझे पाने की ज़िद में.


जरा देखो तो ये दरवाजे पर दस्तक किसने दी है, अगर ‘इश्क’ हो तो कहना, अब दिल यहाँ नही रहता.


कभी न कभी वो मेरे बारे में सोंचेगी ज़रूर.. के हासिल होने की उम्मीद भी नही थी, फिर भी वफ़ा करता था.


क़ाश कोई ऐसा हो, जो गले लगा कर कहे, तेरे दर्द से मुझे भी तकलीफ होती है.


वक़्त नूर को बेनूर बना देता है! छोटे से जख्म को नासूर बना देता है! कौन चाहता है अपनों से दूर रहना पर वक़्त सबको मजबूर बना देता है.


कोई ठुकरा दे तो हँसकर जी लेना..! क्यूँकि मोहब्बत की दुनिया में ज़बरजस्ती नहीं होती.


दुख तो अपने ही देते हैं वरना गैरों को कैसे पता की हमें तकलीफ किस बात से होती है.


रोकना मेरी हसरत थी जाना उसका शौक। वो शौक पूरा कर गए मेरी हसरतें तोड़ कर.


अकेले रहने का भी एक अलग सुकून हे.. ना किसी की वापस आने की उम्मीद.. ना किसी के छोड कर जाने का डर.


कुछ उनकी मजबूरियाँ, कुछ मेरी कश्मकश। बस यूँ ही, एक ख़ूबसूरत कहानी को खत्म कर दिया हमने.


तकलीफें तो हज़ारों हैं इस ज़माने में, बस कोई अपना नज़र अंदाज़ करे तो बर्दाश्त नहीं होता.


निगाहों में अभी तक दूसरा कोई चेहरा ही नहीं आया, भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का.


उसने कहा हमसे.. हम तुम्हें बर्बाद कर देंगे. हमने मुस्कुरा के पूछा… क्या तुम भी मोहब्बत करोगे अब हमसे?


लोग सुबूत माँगते हैं हम से हमारी बर्बादी का, अब कैसे बताएँ, अपने हादसों के हम अकेले ही गवाह है.


हम रोए भी तो वो जान ना सके… वो उदास भी हुए हुए तो हमें खबर हो गई.


मेरी यादों की कश्ती उस समुन्दर में तैरती है, जहाँ पानी सिर्फ और सिर्फ मेरी पलकों का होता है.


अजीब रंगो में गुजरी है, मेरी जिंदगी, दिलों पर राज़ किया पर मोहब्बत को तरस गए.


जिंदगी में बेशक हर मौके का फायदा उठाओ !! मगर, किसी के भरोसे का फ़ायदा नहीं.


रोज़ एक नई तकलीफ, रोज़ एक नया गम, ना जाने कब ऐलान होगा की मर गए हम.


कभी टूट कर बिखरो तो मेरे पास आ जाना,मुझे अपने जैसे लोग बहुत पसंद हैं.


बिखरा वज़ूद, टूटे ख़्वाब, सुलगती तन्हाईयाँ, कितने हसींन तोहफे दे जाती है ये अधूरी मोहब्बत.


घुटन सी होने लगी है, इश्क़ जताते हुए, मैं खुद से रूठ गया हूँ, तुम्हे मनाते हुए.


अरे कितना झुठ बोलते हो तुम.. खुश हो और कह रहे हो मोहब्बत भी की है.


वो गुस्से में तेरा लब से मेरे सिगरेट हटा देना उसी दिलकश अदा की याद में अब कश लगाते हैं.


खुद को माफ़ नहीं कर पाओगे, जिस दिन जिंदगी में हमारी कमी पाओगे.


तकलीफ ये नही की किस्मत ने मुझे धोखा दिया, मेरा यकीन तुम पर था किस्मत पर नही.


किसे इल्ज़ाम दे अपने जज़्बातो के क़त्ल का… समझदार बनने का शौख तो हमे ही था.


अफ़सोस होता है उस पल जब अपनी पसंद कोई ओर चुरा लेता है.. ख्वाब हम देखते है.. और हक़ीक़त कोई और बना लेता है.


बारिश‬ के ‪बाद‬ तार पर ‪टंगी‬ ‪आख़री‬ ‪‎बूंद‬ से पूछना, क्या‬ होता है ‪‎अकेलापन‬.


दर्द हैं दिल में पर इसका ऐहसास नहीं होता… रोता हैं दिल जब वो पास नहीं होता… बरबाद हो गए हम उनकी मोहब्बत में… और वो कहते हैं कि इस तरह प्यार नहीं होता.


अभी ज़रा वक़्त है, उसको मुझे आज़माने दो. वो रो रोकर पुकारेगी मुझे, बस मेरा वक़्त तो आने दो.


बेवफा लोग बढ़ रहे हैं धीरे धीरे, इक शहर अब इनका भी होना चाहिए.


मरने के नाम से जो रखते थे मुँह पे उँगलियाँ, अफ़सोस वही लोग मेरे दिल के क़ातिल निकले.


मोहब्बत तो दिल से की थी, दिमाग उसने लगा लिया, दिल तोड दिया मेरा उसने और इल्जाम मुझपर लगा दिया.


किस किस से वफ़ा के वादे कर रखे हैं तूने? हर रोज़ एक नया शख्स मुझसे तेरा नाम पूछता है.


ढूंढ तो लेते अपने प्यार को हम, शहर में भीड़ इतनी भी न थी..पर रोक दी तलाश हमने, क्योंकि वो खोये नहीं थे, बदल गये थे.


आँखें थक गई है आसमान को देखते देखते पर वो तारा नहीं टूटता ,जिसे देखकर तुम्हें मांग लूँ.


हमारी चर्चा छोडो दोस्तों, हम ऐसे लोग है जिन्हें, नफरत कुछ नहीं कहती और मोहब्बत मार डालती है.


तेरे बिना जीना मुश्किल है! ये तुझे बताना और भी मुश्किल है.


जो दिल में आये वो करो, बस किसी से अधूरा प्यार मत करो.


रोकना मेरी हसरत थी जाना उसका शौक। वो शौक पूरा कर गए मेरी हसरतें तोड़ कर.


कहाँ पूरी होती है दिल की सारी ख्वाइशें कि बारिश भी हो , यार भी हो और पास भी हो.


जो उड गये परिंदे उनका क्या अफसोस करें यहां तो पाले हुए भी गैरों की छतों पर उतरते हैं.


अकेले रहने में और अकेले होने में फर्क होता है.


कैसे करे इंतजार तेरे लौट आने का, अभी दिल को यकीन नहीं हुआ है तेरे चले जाने का.


वादो से बंधी जंजीर थी जो तोड दी मैँने, अब से जल्दी सोया करेंगे , मोहब्बत छोड दी मैँने.


जा तुझे तेरे हाल पर छोड़ दिया इससे बेहतर तेरी सज़ा क्या होगी.


हम तो हद से गुजर गए थे तुम्हे चाहने में तुम्ही उलझे रहे हमे आजमाने में.


मुझे रुलाकर सोना तेरी आदत बन गयी है .. जिस सुबह मेरी आँख न खुली उस दिन तुझे तेरी अपनी ही नींद से नफरत हो जाएगी.


ना रहा करो उदास किसी बेवफा की याद में , वो खुश है अपनी दुनिया में तुम्हारी दुनिया उजाड़ कर.


वो उदासी भर लम्हा जब उनके पास आपके इलावा सब के लिए टाइम होता है.


तुम रख न सकोगे मेरा तोहफा संभालकर, वरना मैं अभी दे दूँ, जिस्म से रूह निकालकर.


मोहब्बत में हमेशा अपने आप को बादशाह समझा हमने मगर एहसास तब हुआ जब किसी को माँगा फकीरों की तरह.


तू हजार बार रुठेगी फिर भी तुझे मना लूँगा …तुझसे प्यार किया हे कोई गुनाह नही, जो तुझसे दूर होकर खुद को सजा दूँगा.


टूट कर चाहा था तुम्हे और तोड़ कर रख दिया तुमने मुझ.


अब अकेला नहीं रहा मैं यारों मेरे साथ अब मेरी तन्हाई भी है.


भरम है तो भरम ही रहने दो जानता हूं मोहब्बत नहीं है पर जो भी है कुछ देर तो रहने दो.


हमने तो एक ही शख्स पर चाहत ख़त्म कर दी अब मोहब्बत किसे कहते है मालूम नहीं.


वो सुना रहे थे अपनी वफाओं के किस्से हम पर नज़र पड़ी तो खामोश हो गए.


अल्फ़ाज़ के कुछ तो कंकर फ़ेंको, यहाँ झील सी गहरी ख़ामोशी है.


खुद से मिलने की भी फुरसत नहीं है अब मुझे,और वो औरो से मिलने का इलज़ाम लगा रहे है.


रोज़ ख्वाबों में जीता हूँ वो ज़िन्दगी जो तेरे साथ मैंने हक़ीक़त में सोची थी.


इश्क लिखना चाहा तो कलम भी टूट गयी ये कहकर अगर लिखने से इश्क मिलता तो आज इश्क से जुदा होकर कोई टूटता नही.


किसी को प्यार करो तो इतना करों की उसे जब भी प्यार मिलें तो तुम याद आओ.


रात भर जागता हूँ एक एसे सख्श की खातिर जिसको दिन के उजाले मे भी मेरी याद नही आती.


उनके हाथ पकड़ने की मजबूती जब ढीली हुई तो एहसास हुआ शायद ये वही जगह है जहां रास्ते बदलने है.


हुस्न वाले जब तोड़ते हैं दिल किसी का,बड़ी सादगी से कहते है मजबूर थे हम.


बड़ी अजीब सी मोहब्बत थी तुम्हारी पहले पागल किया फिर पागल कहा..फिर पागल समझ कर छोड़ दिया.


उजड़ जाते हैं सिर से पाँव तक वो लोग जो किसी बेपरवाह से बेइंतहा मोहब्बत करते हैं.


आज उस की आँखों मे आँसू आ गये,वो बच्चो को सिखा रही थी की मोहब्बत ऐसे लिखते है.


बड़ी हिम्मत दी उसकी जुदाई ने ना अब किसी को खोने का दुःख ना किसी को पाने की चाह.


मुमकिन नहीं शायद किसी को समझ पाना बिना समझे किसी से क्या दिल लगाना.


तेरे‬ सिवा कौन ‎समा‬ सकता है ‎मेरे‬ दिल में रूह‬ भी गिरवी रख दी है मैंने तेरी‬ चाहत में.


मुझे भी शामिल करो गुनहगारों की महफ़िल में , मैं भी क़ातिल हूँ अपनी हसरतों का , मैंने भी अपनी ख्वाहिशों को मारा है.


हमें तो कब से पता था कि तुम बेवफा हो बस तुझसे प्यार करते रहे कि शायद तुम्हारी फितरत बदल जाये.


हजारो गम है सीने मे मगर शिकवा करें किससे इधर दिल है तो अपना है उधर तुम हो तो अपने हो.


प्यार करना हर किसी के बस की बात नहीं जिगर चाहिए अपनी ही खुशियां बर्बाद करने के लिए.


ना मेरा दिल बुरा था ना उसमें कोई बुराई थी , सब नसीब का खेल है , बस किस्मत में जुदाई थी.


भरोसा जितना कीमती होता है धोका उतना ही महँगा हो जाता है.


मोहब्बत होने में कुछ लम्हे लगते है .. पूरी उम्र लग जाती है उसे भुलाने में.


अबकी बार सुलह करले मुझसे ए दिल वादा करता हूँ की फिर नहीं दूँगा तुझे किसी ज़ालिम के हाथों में.


ऐ इश्क़…तेरा वकील बन के बुरा किया मैनें, यहाँ☝🏻हर शायर तेरे खिलाफ सबूत लिए बैठा हैं.


इरादा कतल का था तो मेरा सिर कलम कर देते , क्यों इश्क़ में डाल कर तूने मेरी हर साँस पर मौत लिखदी.


कमाल का जिगर रखते है कुछ लोग… दर्द पढ़ते है और आह तक नहीं करते.


ऐ इश्क़…तेरा वकील बन के बुरा किया मैनें, यहाँ☝🏻हर शायर तेरे खिलाफ सबूत लिए बैठा हैं.


जरा खुद ही सोचना क्या गुज़रेगी उस दिन तुम पर जब तू चाहेगी मुझे मेरी तरह और मैं छोड दूँगा तुझे तेरी तरह.


कैसे करूँ मैं साबित…कि तुम याद बहुत आते हो…एहसास तुम समझते नही…और अदाएं हमे आती नहीं.


बडी मुश्किलों से सीखा हे जीना, दूर तुझसे होकर तेरे बिना लोटकर फिर न आना, वरना जीकर भी मर जाऊँगा तेरे बिना.


हर रोज बहक जाते हैं मेरे कदम, तेरे पास आने के लिये…ना जाने कितने फासले तय करने अभी बाकी है तुमको पाने के लिये.


ज़हर से ज्यादा खतरनाक है ये मोहब्बत जरा सा कोई चख ले मर – मर के जीता है.


कोशिश तो होती है कि तेरी हर ख़्वाइश पूरी करूँ पर डर लगता है कि तू ख़्वाइश में कहीं मुझसे जुदाई ना माँग ले.


जिस कदर तुमने भुला रखा है कभी सोचना, हम सब छोड़कर निकले थे एक तेरी मोहब्बत के लिये.


वो जा रही थी और मैं खामोश खड़ा देखता रहा, क्योंकि सुना था कि पीछे से आवाज़ नहीं देते.


जो कभी मेरी उदासी की वजह पूछा करता था अब उसको मेरे रोने से भी फर्क नहीं पढ़ता.


मैं रोज़ लफ़्ज़ों में बयान करता हूँ अपना दर्द,और सब लोग सिर्फ़ वाह-वाह कह कर चले जाते है.


पलकों में आँसू और दिल में दर्द सोया है , हँसने वालों को क्या पता रोने वाला किस कदर रोया है.


हर रात गुजर रही है रूठने और मनाने में कहीं साँसें थम ना जाए मेरी… हमारे प्यार को बचाने में.


वो पत्थर कहाँ मिलेंगे दोस्तों ? जिसे लोग दिल पर रख कर एक दूसरे को भूल जाते हैं.


कहते है, प्यार की शुरुआत आँखो से होती है,यकीन मानो दोस्तो ,प्यार की कीमत भी आँखो से ही चुकानी पड़ती है.

Final Words:

So my dear friends these were the best sad status in hindi for whatsapp and facebook which you must share with your friends, girlfriend and boyfriend on social media sites.

We are going to add more content to this post and keep it updated so that you will be able to read latest and new sad status.

Friends if you liked our status then please give 1 like and share on whatsapp and facebook and your friends will definitely love it. Thanks and keep coming back for more.

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *