Shayari on Eyes | आँखों पर शायरी

Hello friends in this post we are going to share best shayari on eyes which you can share with your friends on whatsapp and facebook. Eyes shayari are very good which  you can use to impress any girl or boy.

So friends without wasting anytime let’s start this shayari collection.

Shayari on Eyes

आँखों पर शायरी

shayari on eyes

1
नजर से जो नजर मिले तो कत्लेआम होता है
जाम की क्या जरुरत है हमे
उनके निगाहों मै ही इतना नशा होता है।।

2
हमने उनको देखा हम देखते ही रहे गए
उनकी झील से गहरी आंखों मै खो गए
उनकी हर अदा प्यारी थी
पर हम तो उनकी निगाहों मै डूब गए।।

3
जब भी उसे देखू मुझे एक ख्याल आता है
उसकी निगाहों पर मुझे प्यार आता है
दिल करता है देखता रहूं मै उसे
मुझे इस कदर उस पर प्यार आता है।।

4
उसके होने से जिंदगी है मेरी
मै उसके लिए है जिया करता हूं
वो निगाहों से कत्ल करती है
मै उसका हर वार सह लिया करता हूं।।

5
उसकी निगाहों मै कुछ तो बात है
जो सबको उसका दीवाना बना देती है
निगाहों से निगाहे मिलती है ऐसे
पानी को भी शराब बना देती है।।

6
उसकी झील से गहरी आंखों मै डूब जाना चाहता हूं
मै तो बस उसमे खो जाना चाहता हूं
वो सिर्फ मेरी है अब मुर्शीद
मै ये दुनिया को बताना चाहता हूं।।

7
उन्होंने तो कुछ कहा ही नहीं
हम उनके किरदार मै खो से गए
उनकी आंखो मै एक अलग नशा था
हम उसमे डूब से गए।।

8
जिंदगी के सफर उन जैसा कोई हसीन नहीं मिला
हमको उनके जैसा कोई प्यारा नहीं मिला
उनकी निगाहों मै बात ही अलग थी
उनके जैसा आज तक कोई समंदर नहीं मिला।।

9
तुझे देखूं तुझे सोचू
हर पल तुझे ही याद करता हूं
तेरी निगाहों मै कुछ तो बात है
जो मै सिर्फ तुझसे प्यार करता हूं।।

10
खुदा ने बड़ी फुर्सत से उसे बनाया होगा
मेरे लिए ही उसे जमीं पर उतारा होगा
उसकी आंखो मै समंदर दिखता है मुझे
मेरी मोहब्बत के काबिल उसे है बनाया होगा।।

11
एक खालीपन था उसकी आंखो मै
जो वो किसी से कह नहीं पाती थी
सब रिश्ते थे उसके पास अपने
मगर वो एक मेरे बिन नहीं रह पाती थी।।

12
निगाहों ने भी उसका इंतज़ार किया है
हर घड़ी उससे प्यार किया है
कितनी रातें जागी है ये आंखे
हमने उसके मैसेज का इंतज़ार किया है।।

13
सफर मै कुछ लोग सुहाने लगते है
मुझे तो वो सिर्फ अपने लगते है
उनकी निगाहों मै कुछ तो बात है
इसलिए वो हमे इतने प्यारे लगते है।।

14
निगाहों से निगाहें तो मिलने तो
जाम से जाम तो टकराने दो
हम तो मदहोश हो चुके है कब के
जरा उन्हें हमारे करीब तो आने दो।।

15
एक अलग सा नुर है उसकी आंखों मै
जो सिर्फ उसके पास है
लोग मिलते है कई मुझे इस राह मै
लेकिन वो प्यार करने शक्स मेरे पास है।।

16
निगाहे भी बोलती है जनाब
बस सुनने वाला चाहिए
कोई तो हो जो कर सके हाले दिल बयां
मुझे सिर्फ उससे बात करने का बहाना चाहिए।।

17
बहुत चाहा था उसे मैने
बहुत प्यार किया था
मैने उसका हर घड़ी इंतज़ार किया था
उसकी निगाहों मै खो चुका था मै
मैने उससे इतना इश्क किया था।।

18
वो तो चले गए हमे छोड़कर
पर उनकी पहली मुलाकात याद रह गई
उनकी वो झील से गहरी आंखों मै
कुछ तो अधूरी खवाइश रह गई।।

19
मेरी आंखें बहुत रोई है रात भर उसके लिए
मेरे पास कुछ कहने का ना रहा
अब वो चली गई जब छोड़कर
मेरे पास कुछ खोने को ना रहा।।

20
कुछ अनजान लोग मिले थे राहो में
हम उनकी निगाहों को दिल दे बैठे
पहली ही नजर मिली थी उनसे
और हम उनसे मोहब्बत कर बैठे।।

21
मोहब्बत का आलम कुछ इस कदर है
मिलने कि हसरत सिर्फ इस तरफ है
उनकी निगाहों मै प्यार का इकरार नहीं
और हमारी निगाहों मै मोहब्बत की तड़प है।।

22
मोहब्बत हो गई थी उनसे
हम उनको दिल से बैठे थे
पहली ही नजर मै अपना
सब कुछ उनके नाम कर बैठे थे।।

23
उनकी निगाहों पर ऐतबार कर लिया था
हमने सिर्फ उनसे प्यार कर लिया था
हम कोई नहीं लगते थे उनके
पर फिर भी इस दिल ने उन पर ऐतबार कर लिया था।।

24
जमाने की निगाहों मै हम क्या है
हम ये कभी सोचा नहीं करते
हमे उनसे है मोहब्बत
हम इजहार से डरा नहीं करते।।

25
महखाने की जरुरत नहीं हमे
नशे के लिए उनकी आंखे की काफी है
जाम पर जाम पीने से क्या फायदा
हमारे लिए तो उनकी निगाहें ही काफी है।।

26
उठे जो निगाहे तो बवाल करती है
वो सिर्फ हमसे सवाल करती है
हम देखते रहते है उनकी आंखो मै
वो सिर्फ हमसे मोहब्बत करती है।।

27
आसान नहीं होता किसी की निगाहों के वार से बच जाना
उसकी मोहब्बत में इस कदर डूब जाना
खुद को भुलाकर भी सिर्फ उसको ही चाहना।।

28
हमने तो कुछ नहीं कहा उनसे
उनकी निगाहे सब बोल रही थी
उन्हे कितनी है हमसे मोहब्बत
ये आंखो मै साफ दिख रही थी।।

29
उनकी आंखे किसी झील से कम नहीं है
उनमें खो जाने को दिल चाहता है
हम सिर्फ देखते रहते है उनको
उनसे प्यार करने को जी चाहता है।।

30
किसी का मन भर जाता है मोहब्बत से
वो छोड़कर चला जाता है
पर वो निगाहे आज भी याद रह जाती है
जिनमे कभी उसका प्यार नजर आता है।।

31
उसको रास नहीं आती हमारी मोहब्बत
हम उनकी आंखे भी पढ़ लिया करते है
कुछ नहीं दिखता उनकी आंखो मै
हम उनका ऐतबार अब समझ लिया करते है।।

32
हमसे कोन क्या कह पाएगा हमे किसी की जरुरत नहीं है
हम सिर्फ उनके है हमे अब किसी की जरुरत नहीं है
उनकी निगाहों के आदी हो चुके है हम
अब हमे किसी महखाने की जरुरत नहीं है।।

33
मुलाकात अक्सर अधूरी रह जाया करती है
पर वो निगाहे बड़ी याद आया करती है
जिससे थी मोहब्बत वो चली गई
पर आज उसकी बड़ी याद आया करती है।।

34
जब भी देखा हमने उन्हें अपनी जिंदगी के रूप में देखा
उनकी ही सिर्फ हमने अपने साथ देखा
हमारी निगाहों मै प्यार था उनके लिए
पर उन्होंने कभी इनको पढ़कर नहीं देखा।।

35
उनकी खूबसूरती की क्या बात करे
उनका तो हर किरादर अच्छा लगता है
जब वो झुकाती है अपनी पलकें
तो ये जहां भी शर्माने लगता है।।

36
सफर मै उनके जैसे कुछ लोग ही मिल पाते है
हम सिर्फ उनसे मोहब्बत कर पाते है
कोई क्या कहेगा हमे
हम तो सिर्फ उन्हे देखना चाहते है।।

37
उनके सिवा ये आंखे अब
किसी ओर को देखना नहीं चाहती
उनकी निगाहों मै है हमारे लिए प्यार
अब ये किसी ओर से मोहब्बत नहीं करना चाहती।।

38
मोहब्बत के सिवा कुछ नहीं आता हमे
हम तो उनकी आंखो मै डूब गए थे
उनकी खूबसूरती थी इस कदर
हम तो सिर्फ उसमे खो गए थे।।

39
एक अजीब सी कशिश थी उनकी निगाहों मै
जो हमे उनकी ओर ले गई
हम नहीं चाहते थे दिल लगाना उनसे
फिर मै हमे उनसे मोहब्बत हो गई।।

40
इस तरह से ना देखो करो हमे
हम सिर्फ आपको चाहते है
आपकी निगाहों के कायल है हम
सिर्फ आपको दिल मै रखना चाहते है।।

41
प्यार हो गया है आपसे
आप की आंखो मै हम खो गए है
अब किसी जाम की जरुरत नहीं है
हम आपकी निगाहों मै मदहोश हो गए है।।

42
एक सफर था जो अधूरा रह गया
जिंदगी का कुछ हिस्सा अधूरा रह गया
उनकी निगाहों की तलब थी हमे
पर हमारा प्यार अधूरा रह गया।।

43
मोहब्बत मै नाकाम निकले हम
उनके दिल से कब के बाहर निकले हम
पर आज भी उसकी निगाहों मै इजहार दिखाई देता है
मुझे उसके दिल मै सिर्फ प्यार दिखाई देता है।।

44
सफर जो एक खूबसूरत लगता है
हम उसके बिना जी नहीं सकते है
उनको थी हमसे मोहब्बत इस कदर
हम उनके सिवा किसी से इकरार कर नहीं सकते है।।

45
उनकी निगाहों मै इजहार था
हमारे लिए थोड़ा था प्यार था
वो क्यों चली गई किसी ओर के पास
जब उनके हिस्से में हमारे जैसा दिलदार था।।

46
निगाहों से निगाहें मिली तो सब देखते रह गए
सब हमारे किरदार मै बहते रह गए
इस कदर हुई मोहब्बत दोनों को
दोनों एक दूसरे को करीब हो गए।।

47
उनके बिना कैसे रह पाएंगे हम
आज भी उनकी बहुत याद आती है
उनकी निगाहों की वो खूबसूरती
आज भी दिल को तड़पाती है।।

48
बहुत रो लिए है हम
हमने बहुत मोहब्बत कर ली
उनकी निगाहों पर ऐतबार था हमे
ओर इस दिल ने उनसे मोहब्बत कर ली।।

49
बिगड़ गए है हालात सब आज कुछ भी याद ना रहा
उसके सिवा अब कोई अपना नहीं रहा
मैने देखा था उसकी आंखो मै,, मोहब्बत तो थी
पर शायद अब उसे मेरे प्यार पर यकीन ना रहा।।

50
प्यार कि हर तकलीफ को सह गया
ये दिल सिर्फ उसका हो गया
हमने की थी उससे मोहब्बत
ओर हमे उनकी निगाहों पर ऐतबार हो गया।।

51
अब क्या लिखे हम हमे तो कुछ नजर नहीं आता
उनकी निगाहों के सिवा किसी पर ऐतबार नहीं आता
दिल जो टूट चुका है मेरा अब
मुझे उसके सिवा किसी पर प्यार नहीं आता।।

52
हर तरफ था इश्क मेरे
पर मैने उसकी निगाहों को ढूंढा था
मुझे उससे था प्यार
मैने सिर्फ उसको देखा था।।

53
हमे सिर्फ उनसे इश्क था
हमने सिर्फ उनको चाहा था
उनकी निगाहों को देखकर
हमे चांद याद आया था।।

54
उनसे दिल लगाने कि ये सजा दी जाएगी
उनकी निगाहों को देखकर हमे
किसी ओर की याद आएगी
उसने भी किया था ऐसा ही
क्या आज भी मेरे पास सिर्फ बर्बादी आएगी।।

55
हर तरफ देखा था मैने
पर उस जैसा मुझे कोई नहीं दिखा
मै तो सिर्फ उसके प्यार मै था
मुझे उसका वो धोखेबाज चहेरा नहीं दिखा।।

56
जिंदगी कुछ सोच रही है मेरे बारे मै
मै उसे बिना देखे चले जा रहा हूं
उस एक नजर की तलाश में
मीलों दूर जा रहा हूं।।

57
उनकी निगाहों पर ऐतबार था हमे
पर वो भी हमसे धोका कर बैठे
हम करते थे उनसे प्यार
वो किसी ओर से मोहब्बत कर बैठे।।

58
मोहब्बत मै ये तो होना ही था
हमे उनकी निगाहों मै खोना ही था
जब प्यार किया था सिर्फ उनसे
तो उनके लिए इन आंखों को रोना ही था।।

59
हम कुछ कह जाते है
उनको सिर्फ अब हम नजर आते है
उनकी निगाहे करती है प्यार का इजहार
हम आज सिर्फ उनको हो जाते है।।

60
आज उनको बड़ा प्यार आ रहा है
हमारे उपर ऐतबार आ रहा है
कोन कहेगा वो धोखेबाज है
उनकी निगाहों मै सच्चाई का
झूठा अक्ष नजर आ रहा है।।

61
अब क्या होगा मोहब्बत से हम उनसे प्यार नहीं करते
उनकी फरेबी निगाहों पर कभी ऐतबार नहीं करते
जिंदगी गुजार चुके है हम उनके बिना
अब हम उन निगाहों से प्यार नहीं करते।।

62
जमाना बहुत अच्छा था हमने देखा था
पर उनकी निगाहों से अच्छा हमने कोई ना देखा था
पहली नजर मै प्यार हो गया था हमे उनसे
हमने उन्हें अपना खुदा देखा था।।

63
अब क्या फायदा अफसोस करने का
हम तो उनसे कुछ ही नहीं पाए
वो चले गए हमारे पास से
हम उनकी निगाहों को पढ़ ही नहीं पाए।।

64
निगाहों का खेल भी अनोखा है
किसी को बर्बाद भी कर सकती है
झील सी गहरी आंखे है उनकी
किसी को भी मदहोश कर सकती है।।

65
आंखो मै बहुत दर्द है उनके
हमने उनको करीब से जाना था
कोई नहीं था पास हमारे
हमने उन्हें खुदा माना था।।

66
एक बार हमारी निगाहों का ऐतबार करके देखो
एक बार तो हमसे प्यार करके देखो
डूब ना जाओ हमारे प्यार मै तो कहना
हमसे एक बार नज़रे मिलाकर तो देखो।।

67
मुझे हर पल उसकी निगाहों याद आती है
जब से देखा है सो नहीं पाया हूं
मै सिर्फ उनका हूं आज के बाद
ये भी उनसे कह नहीं पाया हूं।।

68
दिल से दिल मिलाकर तो देखो
हमसे प्यार करके तो देख
अगर नहीं है हम पर ऐतबार
तो जरा इन आंखों मै झांककर देखो।।

69
जब से उसकी आंखो को देखा है
मै सोया नहीं हूं रात भर
वो नहीं है मेरे पास अभी
पर मै उसे भुला नहीं हूं अब तक।।

70
जब भी दर्द की सौगात आती है
उसकी निगाहों मै देख लिया करता हूं
मै सिर्फ उससे मोहब्बत कर लिया करता हूं
वो कोई दुआ से असर करती है मुझपर
मै उससे प्यार कर लिया करता हूं।।

71
हम क्या कहते उनको
सब कुछ उनकी आंखो ने बयां कर दिया
मोहब्बत थी उनको हमसे
हमने भी उनको इजहार कर दिया।।

72
उसकी खूबसूरती के चर्चे हजार है
पर किसी ने उसकी आंखो मै नहीं देखा
सबने उसका रूप देखा है बस
किसी ने उसके दिल मै उतरकर नहीं देखा।।

73
इन मदहोश आंखो मै किसी का चहेरा आज भी है
उसकी एक झलक पाने को दिल बेताब आज भी है
कोई क्या कहेगा उसको मेरे बारे मै
उसकी आंखो मै आज भी वो प्यार बाकी है।।

74
कुछ ना खाया हमने हमे कुछ याद ना आया
उसके सिवा किसी पर दिल ना आया
उसकी आंखो मै कुछ तो बात थी
तभी ये मोहब्बत का किस्सा मेरे हिस्से मै आया।।

75
अगर नहीं मना पाओ मुझे
तो मेरी आंखो मै देख लेना
तुम करते हो किसी ओर से मोहब्बत पता है
पर एक बार मेरी निगाहों मै भी देख लेना।।

76
उसके सफर मै साथी आज भी हूं
उसकी निगाहों का आदी आज भी हूं
उतनी ही मोहब्बत है उनसे हमे
उस नजर का दीवाना आज भी हूं।।

77
कल ही देखा था उसे मैने
मै अब तलक उसको भुला नहीं हूं
उसकी निगाहों की वो गुस्ताखी
अभी तक भुला नहीं हूं।।

78
जिंदगी आसानी से चल रही थी मेरी
फिर एक दिन उनकी नजरो से सामना हो गया
हम नहीं थे उनके पास फिर भी
हमे उनसे इश्क हो गया।।

79
हर समय उसको सोचता हूं
हर समय मै उसको देखा करता हूं
उसकी इन नजर देखने के लिए
रात दिन तरसा करता हूं।।

80
एक बार तो मेरी फिक्र कर लिया करो
कभी तो मुझे प्यार कर लिया करो
इन निगाहों मै देखना कभी
कभी तो इन पर ऐतबार कर लिया करो।।

81
जिंदगी मेरी कुछ इस तरह गुजर रही है
उनसे निगाहें मिलने के बाद
सिर्फ उनका इंतज़ार कर रही है
उनको ही देखा है खवाबो मै
ये सिर्फ उनसे प्यार कर रही है।।

82
जब भी उसको देखा मैने
सिर्फ उसकी निगाहों मै देखा है
मैने तो की है मोहब्बत उससे
सिर्फ उसे है प्यार करके देखा है।।

83
सफ़र मै जब कोई नहीं मिलता
जिससे प्यार करो वो नहीं मिलता
जिन आंखो की रहती है तलब हमेशा
उनके बिना हमे सुकून नहीं मिलता।।

84
अगर नहीं रहता मै उसके पास
मुझे तो कुछ पता भी नहीं था
उसकी निगाहों मै मेरे लिए प्यार था
मुझे तो पता भी नहीं था।।

85
निगाहों से निगाहे मिली ओर प्यार हो गया
उसकी सोचा हर घड़ी इंतज़ार हो गया
इश्क किया हमने इतने जतन से
खुदा को भी हम पर नाज हो गया।।

86
मैने जो देखा उसे तो देखता ही रह गया
हर घड़ी उसे सोचता ही रह गया
कुछ तो बात थी उसकी आंखो मै
मै उसे प्यार करता रह गया।।

87
उसके बिना कहा कुछ अच्छा लगता है
हमे कहा उसके बिना जीना अच्छा लगता है
तलब रहती है उसकी खूबसूरत आंखो की
हमे उसके पास रहना अच्छा लगता है।।

88
उनकी निगाहों पर ऐतबार किया था
हमने तो सिर्फ उनसे प्यार किया था
हमारी जिंदगी पर हक़ था उनका
हमने उनसे इतना प्यार किया था।।

89
दुनिया को हमने करीब से देखा है
हमने सबको अच्छी तरह से जाना है
उनकी निगाहों पर ऐतबार किया है हमने
हमने उन्हें अपना खुदा माना है।।

90
आज हम उनसे मिले
वो पहले की तरह ही लग रहे थे
आज भी वहीं कशिश थी निगाहों मै
वो आज भी चांद की रोशनी लग रहे थे।।

91
सफर खूबसूरत होता है जब अपना कोई साथ होता है
जिंदगी मै कुछ नहीं हो पर उनसे इश्क होता है
रहते है हम सबके पास हमेशा
पर उनकी निगाहों का इंतज़ार होता है।।

92
उनसे किया प्यार हमने इस कदर
उनकी हर बात से दिल लगा लिया
उनकी निगाहों इतनी खूबसूरत थी
हमने उनको दिल मै बसा लिया।।

93
जिंदगी उनके नाम कर चुके है हम
सिर्फ उनसे मोहब्बत कर चुके है हम
उनकी निगाहों की क्या बात कहे
उन्हे देखकर ही मदहोश हो चुके है हम।।

94
अगर उनसे प्यार इस कदर हो जाए
वो हमे देखे ओर हम उनके हो जाए
हर पल सिर्फ उनका इंतज़ार रहे
हमे उनसे मोहब्बत हो जाए।।

95
कितनी मोहब्बत कर ली हमने उनसे
हम उनके बिना अब रह नहीं सकते
उनसे बहुत किया था प्यार हमने
उनकी निगाहों पर दिल दिया था हमने।।

96
खंजर भी काम नहीं आता जहां
वहां निगाहे कत्ल कर जाती है
कोई कितना भी बड़ा सूरमा क्यों ना हो
उस पल भर मै ढेर कर जाती है।।

97
हम उनके लिए कुछ भी कर सकते थे
ये हमने उनसे कहा था
उनके हर किरदार को हमने
अपनी निगाहों से पढ़ा था।।

98
जो भी लिखा मैने उसके लिए
एक दिन ऐतबार बन गया
सबके लिए मै कुछ नहीं था
पर उसके लिए प्यार बन गया।।

99
उसकी निगाहों मै इजहार देखा है
उसकी आंखो मै वो प्यार देखा है
सुना है आंखे सच बोलती है
तो क्या हमने आज सही देखा है।।

100
जिंदगी उनके नाम कर चुके है हम
उनको आंखो मै बसा चुके है हम
वो सिर्फ अब हमारे है
उनसे बेपनाह मोहब्बत कर चुके है हम।।

101
हर बार मैने उसे माफ किया है
उससे मैने वो शिद्दत वाला प्यार किया है
वो है मेरी जिंदगी अब
मैने उसकी निगाहों पर ऐतबार किया है।।

102
उसके संग अब कहीं भी जा सकता हूं
उसके लिए कुछ भी कर सकता हूं
वो जिंदगी बन चुकी है अब
मै उसकी निगाहों मै खुद को देख सकता हूं।।

103
उसके बिना किसी का ख्याल नहीं आता
मुझे अब किसी पर प्यार नहीं आता
उसकी आंखे कर गई है मुझे घायल
मुझे तो अब कोई याद भी नहीं आता।।

104
उसकी निगाहों के वार से मै बच नहीं पाया
मै उसे कभी अपना बना नहीं पाया
मै करता रहा उससे मोहब्बत
वो मुझे कभी समझ नहीं पाया।।

105
क्या इस तकलीफ का अंत हो पाएगा
क्या उन निगाहों मै कभी मेरे लिए प्यार आएगा
मै तो सोचता हूं उसके बारे मै
क्या उसे भी मेरा ख्याल आएगा।।

106
उसकी एक नजर सबको दीवाना बना देती है
सबको इस कदर पागल बना देती है
सब उसको ही देखते है अब
वो मुझे इतना हसीन बना देती है।।

107
हमने कभी उनको धोका नहीं दिया
उनसे कभी दगा नहीं किया
हर पल किया उनका इंतज़ार हमने
उनकी निगाहों पर इतना ऐतबार किया हमने।।

108
बड़ी बड़ी आंखें है उसकी
जैसे कोई झील की गहराई हो
वो ही है मेरे पास अब
जैसे कोई प्यार कि झलक आई हो।।

109
उसको नहीं देखता तो मुझे चैन नहीं आता
उसके सिवा कभी किसी पर प्यार नहीं आता
कुछ तो बात है उसकी खूबसूरत आंखो मै
वरना मेरा दिल कभी किसी पर नहीं आता।।

110
सबको आजमा कर देख लिया
सब पर ऐतबार कर देख लिया
पर उस जैसा कोई नहीं मिला
हमने हर खूबसूरत चहरे का नकाब देख लिया।।

111
उसकी निगाहों मै प्यार को सेलाब देख लिया
हमने खुद को उसकी आंखों मै देख लिया
नज़रे झुका कर किया उसने इश्क का इजहार
हमने उसी वक्त उसे अपनी बाहों मै समेट लिया।।

112
बिना काजल लगाए भी
उसकी आंखों मै खूबसूरती बहुत है
उसके जैसा कोई नहीं मिला
नहीं तो निगाहों का बाज़ार ओर भी बहुत है।।

113
मै क्या कहता हूं मै क्या करता हूं
मुझे खुद समझ नहीं आता
पागल हो गया हूं मै
मुझे उसकी आंखो के सिवा कुछ नजर ही नहीं आता।।

114
अब उससे प्यार इस कदर हो गया है
हमे उस पर ऐतबार हो गया है
उसकी निगाहों मै देखा है हमने
हमे भी उससे प्यार हो गया है।।

115
मुझे लगा था कि मैने उसे देखा है
हर पल उसे इस कदर सोचा है
पर उसकी आंखों मै तो कुछ ऐसा नहीं था
मेरे लिए उनके प्यार का एक कतरा नहीं था।।

116
इस कदर आंसू ना बहाया करो
अपनी निगाहों को तकलीफ ना दिया करो
आपकी आंखे बहुत खूबसूरत है
इनकी खूबसूरती यूं ना बिगाड़ा करो।।

117
जैसे जाम से जाम टकराता है
वैसे ही नजर से नजर मिल गई
हमे तो पहले नजर मै ही
उनसे मोहब्बत हो गई।।

118
चहरे पर नकाब था उनके
पर आंखे दिखाई दे रही थी
बला की खूबसूरत लग रही थी वो
हमे उनकी खूबसूरत निगाहे दिखाई दे रही थी।।

119
उनकी निगाहों पर हमने ऐतबार किया था
हमने तो सिर्फ उनसे प्यार किया था
उन्होंने सोचा था हमे धोखेबाज
हमने तो इस कदर इकाकर किया था।।

120
अब नहीं रहता उसका इंतज़ार
उसकी निगाहों मै नहीं रहता अब को प्यार
किसी ओर के लिए किया करती है वो सब कुछ
मेरे पास नहीं रहता अब मेरा प्यार।।

121
जिन्दगी कुछ इस तरह से जी रहे है हम
उनके बिना ही हर ग़म को घुट पी रहे है हम
उनकी निगाहों पर ऐतबार था हमें
इसलिए आज भी उनका इंतज़ार कर रहे है हम।।

122
उसे भरी महफ़िल मै भी पहचान सकता हूं
उसकी निगाहों को देख सकता हूं
वो कितना भी छुपा ले कि वो नहीं करती प्यार
मै उसकी आंखों मै देखकर सब पता लगा सकता हूं।।

123
जिंदगी का सफर खूबसूरत निगाहों मै देख लिया
हमने तो सिर्फ उनसे प्यार कर लिया
कोन कहता है हमे बेवफा मुर्शीद
हमने तो उनकी आंखे देखकर ही उनसे प्यार कर लिया।।

124
जब नजर से नजर मिली
तो दिल मै हलचल हुई
हमने देखा उनकी आंखो मै
ओर प्यार की शुरवात हुई।।

125
कभी अपनी पलकें भिगोया ना करो
तुम कभी रोया ना करो
तुम्हारी आंखे बहुत खूबसूरत है
इन्हे यूं ना तकलीफ दिया करो।।

126
निगाहों की खूबसूरती के हम कायल हो गए
हम उनकी एक नजर से ही घायल हो गए
वो देख लेती मुड़कर तो क्या होता
हम तो उनकी खूबसूरत निगाहों के दीवाने हो गए।।

127
महफिल महफिल जाना तो पड़ता है
हर गम में मुस्कुराना तो पड़ता है
उन निगाहों की तलब आज भी है हमें
पर बीच में यह जमाना तो पड़ता है।।

128
उनकी निगाहों में देख कर लगता था हमे
कुछ तो हमारे लिए दिल में वो भी रखते हैं
मोहब्बत ना सही हमसे
पर दिल में थोड़ी तो जगह रहते हैं।।

129
अपनी हर खुशी उसके नाम कर दी
मेरी जिन्दगी की हंसी शाम उसके नाम कर दी
मेरी आंखो ने बहुत किया है उसका इंतज़ार
मैने जिन्दगी तमाम उसके नाम कर दी।।

130
सफर मै मिला था मै उससे
उसको देखकर लगा जिन्दगी मिल गई
उसकी निगाहों का कायल था मै
मुझे उसके जैसी मोहब्बत मिल गई!!

Final Words:

So friends these are the best shayari on eyes, If you loved these shayari then please give this post 1 like and also share with your friends on social media sites.

Apart from this please check out our other posts which you will find very interesting. Thank you.

Leave a Comment

Your email address will not be published.