उम्मीद शायरी | Umeed Shayari in Hindi

Umeed Shayari in Hindi – Hello friends today we are going to share best umeed shayari collection in hindi which are very heart touching and you must definitely share with your boyfriend and girlfriend.

They will really get touched by all these umeed shayari also please share on facebook and whatsapp. In any relationship umeed means expection is very important especially between boyfriend and girlfriend.

So boys and girls without wasting any time further let’s start this shayari collection.

उम्मीद शायरी

उम्मीद शायरी

बेवफा से वफ़ा की उमीद रखी थी
कांतो से खुसबू की उमीद रखी थी
मोहबत में दिल टूटने की उमीद रखी थी
खुदा से दो गाज़ ज़मीन की उमीद रखी थी


मेरे चेहरे पे कफ़न ना डालो,
मुझे आदत आदत है मुस्कुरा ने की,
मेरी लाश को ना दफ़नाओ,
मुझे उम्मीद है उस के आने की.


उमीदे टूटी तो उमीद करना छोड़ दिया,
सपने टूटे तो सपने देखना छोड़ दिया,
जबसे दिल टूटा है, साँसे तो ले रहे है,
पर अब हुँने जीना छोड़ दिया


जानता हूँ मे मेरा वक़्त मुजपे बेरहेम है
मरहम तो ना मिला मिले पल पल तो बस ज़ख़्म है
इस दुनिया से मे उमीद क्या रखूं
दुनिया भी तो उमीद पे कायम है .


जब खुदा ने इश्क बनाया होगा,
तब उसने भी इसे आजमाया होगा..
हमारी औकात ही क्या है,
कमबख्त इश्क ने तो
खुदा को भी रुलाया होगा!


उठा कर तलवार जब घोड़े पे सवार होते
बाँध के साफ़ा जब तैयार होते
देखती है दुनिया छत पे चढ़के
कहते है की काश हम भी ऐसे होशियार होते…


दिल को तेरी ही तमन्ना,
दिल को है तुझ से ही प्यार,
चाहे तू आए ना आए,
हं करेंगे इंतेजार…


उगता हुआ सूरज दुआ दे आपको
खिलता हुआ फूल खुशबू दे आपको
हम तो कुछ भी देने के काबिल नहीं,
देनेवाला हज़ार खुशिया दे आपको!


जिनसे उमीद करी थी जो आएँगे
और मेरी कब्र सजाएँगे,
वो ही मेरी कब्र के
पठार चुरा के ले गये


सफ़र ज़िंदगी का बहुत ही हसीन है
सभी को किसी न किसी की तलाश हैं
किसी के पास मंज़िल हैं तो राह नही
और जिसके पास राह हें तो मंज़िल नही


दिल पे उनके अपनी जीत हो जाए
पूरी दिल की उमीद हो जाए
वो जो आ के एक बार गले से लग जाएँ
तो फिर हमारी ईद हो जाए?


सपनो से दिल लगाने की आदत नही रही,
हर वक़्त मुस्कुराने की आदत नही रही,
ये सोच के की कोई मनाने नही आएगा,
अब हमे रूठ जाने की आदत नही रही…


एक दिन हम भी कफ़न ओढ़ जाएँगे
हर एक रिश्ता इस ज़मीन से तोड़े जाएँगे
जितना जी चाहे सतालो यारो
एक दिन रुलाते हुए सबको छोड़ जाएँगे


हम उनको मनाने आएंगे

उनको उम्मीद अजब की है
वो खुद चल कर आएंगे

हमारी भी जिद्द गज़ब की है


तोड़ दो हर वो ख्वाब
हर ख्वाहिस तोड़ दो
मुझसे तो तुमने की
वो उमीद छोड़ दो .


चलता था कभी हाथ मेरा थाम कर जिस पर
करता हा बोहोत याद वो रास्ता उसे कहना
उमीद वो रखे ना किसी ओर से साहिल
हर शख्स मोहब्बत नही करता उसे कहना .


इतनी आसानी से केसे भूल जाता है कोई,
रह-रह कर क्यो याद आता है कोई,
उमर भर याद करते रहेगे आको,
देखते है कब तक हमे भूलता है कोई…..


वादा करते हैं दोस्ती निभाएँगे
कोशिश यही रहेगी तुझे ना सत्याएंगे
ज़रूरत पड़े तो दिल से पुकारना
मार भी रहे होंगे तो मोहलत लेकर आएँगे


शाम होने से पहले लौट आना,
हम तेरे इंतजार में हैं,
सुबह शाम रहती है तेरे दीदार की उमीद,
अगर ना लौट पाओ तो बस इतना कर देना,
मेरी आखरी सांस होने से पहले ही लौट आना .


मेरे मूह पे कफ़न ना पाना,
मुझे आदत है मुस्कुराने कि
मुझे यु मिट्टी मे ना दबाना,
मुझे उमीद है किसी के आने कि .


एक उमीद के सहारे जीआई जा रहै हैं,
एक घूम-ए-जुदाई के रास्ते पे चले जा रहाहं.
यह ज़िंदगी ही या शबाब का पेयमना,
क़िस्मत मैं है पीना आए अहील पेआ जा रहै हैं!


अंधेरे मे भी चिराग उलफत जलाए रखना
तुफानो मे भी ये शमा ना भूज़ने देना
खुदा ज़रूर मेहरबान होगा एक दिन देखना
उमीद के दामन मे खुद को जगाए रखना .


जीत की खातिर बस जुनून चाहिए,
जिसमे उबाल हो ऐसा खून चाहिए,
यह आसमान भी आएगा ज़मीन पर,
बस इरादों मे जीत की गूँज चाहिए.


तू मेरे नसीब में नही है,
पर फिर भी तेरे आने की उमीद बाकी है.
प्यार करके भी तुझे प्यार कर नही सकते
पर फिर भी तुझे प्यार करने की उमीद बाकी है.


रोती हुई आँखो मे इंतेज़ार होता है,
ना चाहते हुए भी प्यार होता है,
क्यू देखते है हम वो सपने,
जिनके टूटने पर भी उनके सच होने
का इंतेज़ार होता है?


निकलते है तेरे आशिया के आगे से,

सोचते है की तेरा दीदार हो जायेगा,
खिड़की से तेरी सूरत न सही

तेरा साया तो नजर आएगा


कोई गीला कोई शिकवा ना रहे आप से
ये आरजू है इक सीलसला बना रहे आपे से
बस इक बात की उमीद है आप से
दिल से दूर ना करना अगर दूर भी है आपसे


मेने शायद उमीद तुझसे ज़्यादा करली
प्यार की बात तुझसे ज़्यादा करली
मेने सोचा था की तू मुझे प्यार करेगा
मेरे उमीद से ज़्यादा पर तूने तो दर्द-ए-बेवफ़ाई
मेरे उमीद से ज़्यादा कर दी.


सपनो की दुनिया सज़ा रखी है,
मोहब्बत की ज्योति जला रखी है,
मेरे दिल को अब कोई नही बचा सकता,
पत्थर दिल से प्यार की उमीद जो लगा रखी है.


वो मेरे हाथो की लकीरे देखकर

अक्सर मायूस हो जाती है,
शायद,
उसे भी एहसास हो गया है की

वो मेरी क़िस्मत मे नही है.

Final Words

So my dear friends, these were the best umeed shayari in hindi, we really hope that you loved reading this shayari collection. If you did love then don’t forget to share with your boyfriend and girlfriend on whatsapp and facebook.

Also please share your shayari in the comment section which are related to this topic and share you thoughts as well in the comment section as we really love to engage with our readers. Thank you friends

Please Share:

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.