जिंदगी शायरी | Zindagi Shayari in Hindi

Hello, friends in this post we are going to share Zindagi Shayari in Hindi which you can share with your friends on Whatsapp and Facebook. All these Zindagi Shayari are very well written which will also help you to understand what is life all about.

So friends without wasting any time let’s start this post.

Table of Contents:

Zindagi Shayari in Hindi

जिंदगी शायरी

Zindagi shayari in hindi

1
जिंदगी से शिकायते बहुत है
जीने में परेशानी बहुत है
जिंदगी है तो दर्द भी होगा
यहां एक किरदार की कहानी बहुत है।।

2
कितना रुलाएगी ए जिंदगी
मुझे कितना भगाएगी ए जिंदगी
कभी तो मेरे हिस्से मै भी आ जा
मुझे अब ओर क्या रंग दिखाएगी जिंदगी।।

3
मैने लोगो से जीना के सलीका सीख लिया
जो साथ नहीं है उनसे दूर रहना सीख लिया
अब अपनी मर्जी से जीता हूं मै
मैने जिंदगी का हर सबक लिया।।

4
लोग नहीं रहते हमेशा
बस उनकी यादे रह जाती है
ये जिंदगी है मुर्शीद
ये बहुत तड़पाती है।।

5
मेरी जिंदगी तो उससे थी
उसके जाने से सब चला गया
जो कभी था मेरा हमदम
वो अब किसी ओर के साथ चला गया।।

6
मेरे हिस्से का सुख तो मुझे दे दे
अब मै ओर दर्द नहीं सह सकता
अब नहीं है मुझसे हिम्मत
मै अब ओर इस दुनिया मै नहीं रह सकता।।

7
अच्छे लोगो से अच्छे सबक सीखे है
बुरे लोगो से बुरे सबक सीखे है
लोग जैसे है दुनिया मै मैने सबको देखा है
मैने जिंदगी के अफसाने दगाबाजों से सीखे है।।

8
कभी कभी लगता है जिंदगी खत्म हो रही है
धीरे धीरे हमारा साथ छोड़ रही है
दिल की बात कह सके कोई नहीं है अपना
दिल के हर धड़कन भी अब साथ छोड़ रही है।।

9
जिंदगी चल तो रही है
पर जीने मै मजा नहीं आ रहा
जो प्यार था मेरे हिस्से का
वो भी अब नहीं आ रहा
लोग देते है हमेशा मुझे दुख
मेरे हिस्से मै कभी चैन नहीं आ रहा।।

10
लोगो के जाने से अब फर्क नहीं पड़ता
पत्थर दिल इंसान बन चुका हूं
कोई नहीं रहा मेरा तो क्या हुआ
मै अब वेसा ही बन चुका हूं।।

11
मेरे लिए अब कोई मायने नहीं रखता
सब लोगो से दूर जा चुका हूं मै
कभी रहा करता था खुश
अब अपनी अलग दुनिया बसा चुका हूं मै।।

12
सबको आजमाकर देख लिया
सबसे प्यार करके देख लिया
कोई नहीं मिला मुझे अपना
मैने सब पर ऐतबार करके देख लिया।।

13
इस दुनिया के भीड़ मै कोई अपना नहीं है
यहां इंसान किसी का सगा नहीं है
अपनी मंजिल तक खुद जाना पड़ता है
यहां कोई हमारा हमसफर नहीं है।।

14
मैने दुनिया की हर रीत देख ली
बेवफा की बेवफाई देख ली
लोग क्या कहेंगे मुझे अब
मैने उनकी दगाबाजी भी देख ली।।

15
जब भी इस दुनिया से मन भर जाता है
कहीं एकान्त मै वक्त बिताया जाता है
कोई नहीं होता जब अपना हमारे साथ
हर पल उसकी याद मै जिया जाता है।।

16
लोगो कि बात को सुनता रहा है
उनके कहे पर चलता रहा मै
पर अब कोई भी मेरा साथ नहीं देता
टूट चुका हूं अंदर से
अब कोई मुझे अपने हाथ नहीं देता।।

17
अब नहीं चाहिए दुनिया से कुछ मुझे
मै अब अकेला जी खुश रहा करता हूं
जो नहीं है मेरे साथ
मै अब उन्हें भूल जाया करता हूं।।

18
ये अजीब दौर चल रहा है
इंसान इंसान का सगा नहीं हो रहा है
जिंदगी से तंग आ चुके है सब
यहां अब कोई किसी का नहीं हो रहा है।।

19
एक अजीब से कश्मकश है दिल मै
कुछ बाते रहती है दिल मै
किसी से कह नहीं पाते अपना दर्द
बिछड़े हुए लोगो की यादे रहती है दिल मै।।

20
दिल से दिल तक का सफर बहुत अच्छा था
पर उसके जाने से जिंदगी थम सी गई है
मेरे जीवन का आधा हिस्सा था उसके पास
उसके बिना जीने की आस खत्म हो गई है।।

21
अंदर से हर इन्सान परेशान बहुत है
हसंता है बाहर से वो दुखी बहुत है
किसे बताए वो अपनी परेशानी
लोगो से भरी इस दुनिया मै वो अकेला बहुत है।।

22
दर्द जब हद से बढ़ जाया करता है
दिल खुद ब खुद टूटकर बिखर जाया करता है
जी भर कर रो लेने के बाद भी
वो गया हुआ इन्सान हमे बहुत याद आया करता है।।

23
किसी के जाने से जिंदगी नहीं रुकती
मै ये समझ नहीं पाया था
उसके जाने पर बहुत रोया था मै
उसकी आंख मै एक भी आंसू ना आया था।।

24
दर्द की इंतहा हो चुकी है अब
कोई तो मेरे हिस्से मै आ जाओ
लोग तो कहते रहेंगे अपनी
कोई तो दर्द पर मरहम लगा जाओ।।

25
चोट देने वाले बहुत मिलते है
सहारा देने वाला कोई नहीं मिलता
मेरे जिंदगी के दो किनारे है
कभी समंदर नदी से नहीं मिलता।।

26
कुछ लोगो की बाते याद आती है
उनकी बिना जीने कि वजह याद आती है
क्यों चले गए एक हमे छोड़कर
उनकी याद हर पल बहुत तड़पाती है।।

27
कभी किसी से कुछ नहीं मांगा
अपने दम पर सब कुछ किया है
फिर क्यों बदला ले रही है जिंदगी
मैने तेरे हिस्से मै से की लिया है।।

28
लोगो को लगता है मै बहुत खुश रहता हूं
हर पल शान से जीता हूं
दिल का दर्द कोई नहीं जानता
मुस्कान के पीछे का दर्द कोई नहीं पहचानता।।

29
अगर रहना है खुश दुनिया मै
लोगो से दिल लगाना छोड़ दो
जो नहीं करते आप पर यकीन
उन पर यकीन करना छोड़ दो।।

30
अब किसी पर ऐतबार नहीं रहा
मुझे अब किसी से प्यार नहीं रहा
लोग क्या सोचते है मेरे बारे मै
मुझे अब किसी से कोई फर्क नहीं रहा।।

31
जिंदगी के है मुकाम पर आ चुका हूं
जहा कोई अच्छा नहीं लगता
लोग नहीं रहे मेरे पास कोई बात नहीं
मुझे अब किसी से कोई फर्क नहीं पड़ता।।

32
जिसको भी देखा परेशान बहुत है
सबकी आंख मै पानी बहुत है
दूर से हंस देते है सब देखकर
दिल मै अनसुना तूफान बहुत है।।

33
मुझे तो जिंदगी ही तकलीफ देती है
लोगो का क्या भरोसा करू
अब उठ चुका है सब पर से विश्वास
बता है जिंदगी अब मै क्या करू।।

34
जब कोई साथ नहीं होता
उसकी कमी बहुत खलती है
उसके बिना जीने की वजह बहुत खलती है
चला तो गया एक हमे छोड़कर
पर उसकी बेवफाई बहुत खलती है।।

35
एक टूटा हुआ दिल है मेरा
जो कभी जुड़ नहीं सकता
लोगो कि यादें रहती है इसमें
ये कभी अब हंस नहीं सकता।।

36
मेरे से को मिलने आया करते है
अपनी तकलीफ साथ लाया करते है
मुझे जिंदगी का बहुत अनुभव है अब
वो मुझे अपनी तकलीफे सुनाया करते है।।

37
ए जिन्दगी अब मै तुझसे हार नहीं मान सकता
तू कुछ भी कर ले मै पीछे नहीं हट सकता
मुझे अब मेरी मंजिल तक जाना है
मै अपने रास्ता अब नहीं बदल सकता।।

38
कभी रास्तों की फ़िक्र नहीं की मैने
अपनी जगह खुद बनाई है
आज हूं जिस मुकाम पर मै
वो मैने अपनी मेहनत से बनाई है।।

39
जिंदगी सब कुछ बता देती है
हर अनुभव करवा देती है
कुछ लोग होते है धोकेबाज
उनसे भी हमे मिला देती है।।

40
अब जरा संभल कर रहना बदल चुका हूं मैं
लोगों पर विश्वास करना छोड़ चुका हूं मैं
तुम क्या मुझे दर्द दोगे अब
दर्द में जीना सीख चुका हूं मै।।

41
हर एक इंसान को चालकी देख ली
मैने लोगो की दगाबाजी देख ली
अब नहीं रहता मै उनके पास
झूठे लोगो कि मक्कारी देख ली।।

42
अंदर एक शोर बहुत है
आदमी परेशान बहुत है
किसे कहे अपने दिल की जज्बात
यहां हसी उड़ाने वाले बहुत है।।

43
अब लोगो मेरा मजाक बनाया करते है
मुझे अब दगाजाबा बताया करते है
मतलब निकल गया है अब उनका
वो मुझे अब चोर बताया करते है।।

44
हर तरह के दर्द से गुजर चुका हूं मै
हर ग़म अब सह चुका हू मै
अब मुझमें ओर हिम्मत नहीं है
उसकी बेवफाई भी देख चुका हूं मै।।

45
मै तो उसे अपनी जान कहा करता था
उसे अपने दिल की मुमताज कहा करता था
उसने क्यों दिया मुझे धोका
मै तो उसे अपनी दिल की धड़कन कहा करता था।।

46
हर इन्सान की आदत होती है
हंसता हुआ चहेरा दिल मै याद होती है
अकेले ही सह लेता है जिंदगी के ग़म
रोते हुए भी अब ना आहट होती है।।

47
किसी को अपना दर्द बता भी दूंगा तो क्या ही जाएगा
ये बेवफा जमाना मेरा ही मजाक उड़ाएगा
लोग बांटते है हमदर्दी भी अपना फायदा देखकर
ये इंसानों की दुनिया है
यहां हर आदमी अपनी ओकात दिखाएगा।।

48
हर रिश्ता हार उम्मीद अपनी तोड़ चुका हूं मै
अपने हालातों से समझौता कर चुका हूं मै
अब जो मिलेगा दर्द तो चुपचाप सह लूंगा
जिंदगी से लड़ाई करते करते थक चुका हूं मै।।

49
अब नहीं चाहिए मुझे कुछ भी उसके सिवा
ए जिन्दगी मुझे मेरा हमसफ़र लौटा दे
कितने दर्द लिखे है मेरी किस्मत मै ओर
मुझे अपनी बिछड़े यार से अब मिला दे।।

50
किसी को कहने से कुछ नहीं होता
ज़ख्म दिखाने से कुछ नहीं होता
ये जिंदगी है मुर्शीद
यहां रोना रोने से कुछ नहीं होता।।

51
किसी के लिए कभी जज्बात मत लाना
किसी के लिए कभी प्यार मत लाना
ये दुनिया बड़ी दगाबाज है
यहां किसी के किए फीलिंग मत लाना।।

52
कसमे वादे सब टूट गए
जिनको जाना ही था
वो मेरा साथ छोड़ गए
मेरी तकदीर बुरी थी शायद
जो वो मुझसे नाता तोड़ गए।।

53
अब क्या कहूं मै उसको जिसे कभी भूल नहीं पाता हूं
हर लम्हा जिंदगी का उसके नाम कर जाता हूं
मैने तो नहीं कहा था उस जाने को
पर उसकी बेवफाई का दर्द भी अब मै सह जाता हूं।।

54
अब जिंदगी से कोई शिकायत नहीं रही
लोगो से कोई उम्मीद नहीं रही
सबने कर ली है अपने मन की
मुझे अब किसी की जरुरत नहीं रही।।

55
मुझे तो हर बार इस्तेमाल किया है
हर बार मेरा सहारा लिया है
मुझे समझ है कश्ती उन्होंने
हर बार मुझसे किनारा लिया है।।

56
मेरी हदे को तुम क्या जानोगे
जिंदगी का हर लम्हा जिया हूं मैं
बहुत देखे है मैने मंजर
हर दर्द से गुजर चुका हूं मै।।

57
अब जिंदगी की पुरानी बातें याद आती है
लोगो कि वो मीठी बाते याद आती है
जो कहा करते थे हमे जान अपनी
उनकी याद आज बहुत सताती है।।

58
अब लोगो से दूर जाना चाहता हूं मै
जिंदगी से नाता तोड़ना चाहता हूं मै
बहुत जी लिया मै दूसरो की मर्जी से
खुद के साथ अब वक्त बिताना चाहता हूं मै।।

59
बेपरवाह कह दिया गया
मुझे कभी धोखेबाज कह दिया गया
हर ग़म सहा था मैने तो
मुझे फिर भी बेदर्द कह दिया।।

60
अगर हम किसी के लिए इतना ना करते
वो आज हमे रुला ना पाते
मोहब्बत को सिला अच्छा दिया उन्होंने भी
जान कहकर हमे कभी बेवफा न बताते।।

61
अब जो हो जाए मै जिंदगी से भाग नहीं सकता
अपने संघर्षों से मुंह मोड़ नहीं सकता
सबका हिसाब होगा अब एक दिन
मै जिंदगी से यू नाता तोड नहीं सकता।।

62
एक नई सोच के साथ आगे बढ रहा हूं मै
अपने ग़म को बोझ ढो रहा हूं मै
जो कभी मेरे हिस्से मै आया था प्यार
उसके जाने का मातम मना रहा हूं मै।।

63
जिंदगी का हर दर्द अब झेल चुका हूं मैं
सबकी ओकात देख चुका हूं मै
अब किसी से हमदर्दी नहीं करता
लोगो को असलियत पहचान चुका हूं मै।।

64
तुम अब मुझे कुछ नहीं कर सकते
जीने कि आस है ख़तम हो चुकी है
मेरे हुए को क्या मारोगे अब
मेरी तो जिंदगी जिंदा लाश हो चुकी है।।

65
रो लेने के बाद भी जिंदगी का दर्द कम नहीं होता
लोग वही रहते है उनके जाने से प्यार कम नहीं होता
कमबख्त याद ही नहीं जाती उनकी दिल से
उनके दिए ज़ख्मों का कभी इलाज नहीं होता।।

66
अब जो अकेला जीना सीख चुका हूं मै
अब कोई मेरे पास नहीं आएगा
जो वक्त बीत चुका है अब
उसकी याद कोई नहीं दोहराएगा।।

67
जिंदगी से जंग लड़ चुका हूं मै
अपने मंजिल पा चुका हूं मै
लोगो ने रोकने की कोशिश बहुत की
उन्हे उनकी ओकात दिखा चुका हूं मै।।

68
जिंदगी अब कट रही है
जीने का कोई मकसद नहीं रहा
उसके बिना मेरे अब कोई अस्तित्व नहीं रहा
लौटा सके तो लौटा दे ए जिंदगी
मेरे प्यार के बिना मेरा अब कोई नहीं रहा।।

68
खुद के संग एक शाम बिताया करता हूं
बीते हुए लम्हों को मातम मनाया करता हूं
बहुत दर्द दिए है जिंदगी ने मुझे
मै अब उसे उसकी ओकात दिखाया करता हूं।।

69
कभी कभी लगता है बहुत हो चुका है
अब दर्द का आलम बढ़ चुका हूं
अंदर के शोर से परेशान होता है दिल
अब ये टूटकर पूरी तरह बिखर चुका है।।

70
अपनी जिंदगी मै अब किसी को हिस्सा नहीं दूंगा
हद से ज्यादा किसी को अब प्यार नहीं दूंगा
कोई नहीं है मेरे काबिल मुर्शीद
आज के बाद किसी को अपना दिल नहीं दूंगा।।

Final Words:

So friends these were the best zindagi shayari in hindi, we hope that you really loved all these zindagi shayari and if yes then please give this article 1 like and do share with your friends on whatsapp and facebook.

Apart from this do check out our other Shayari collections as they are also very good. Thank you.

Share this...

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published.